To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

वाराणसी-छपरा दोहरीकरण परियोजना : फेफना से करीमुद्दीनपुर तक 120Km की रफ्तार से चली ट्रेन

वाराणसी। परिचालन की सुगमता एवं मूलभूत ढांचे में विस्तार के क्रम में पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल पर वाराणसी-छपरा दोहरीकरण  परियोजना के अंतर्गत फेफना-करीमुद्दीनपुर (21 किमी.) रेल खण्ड का दोहरीकरण कार्य विद्युतीकरण सहित पूर्ण होने के उपरांत मोहम्मद लतीफ खान, रेल संरक्षा आयुक्त उत्तर पूर्वी सर्किल ने सोमवार को विद्युतीकरण सहित नवनिर्मित दोहरी लाइन का संरक्षा निरीक्षण किया गया। रेल संरक्षा आयुक्त के साथ मुख्य प्रशासनिक अधिकारी/निर्माण राजीव कुमार, मंडल रेल प्रबंधक/वाराणसी रामाश्रय पाण्डेय समेत मुख्यालय गोरखपुर, वाराणसी मंडल एवं निर्माण संगठन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

रेल संरक्षा आयुक्त मोहम्मद लतीफ खान सबसे पहले अपनी स्पेशल ट्रेन से करीमुद्दीनपुर स्टेशन पहुंचे और रेलवे स्टेशन पर संस्थापित नए उपकरणों का निरीक्षण किया। इसके साथ ही  दोहरीकरण के मानक के अनुरूप यार्ड प्लान, इंटरलॉकिंग, विडीयू पैनल, ब्लाक यन्त्र, स्टेशन वर्किंग रूल, स्टेशन पावर पैनल, रिले रूम, इंटीग्रेटेड पावर सप्लाई सिस्टम, इमरजेंसी कैंसिलेशन, वीडर काउंटर,प्लेटफार्म क्लियरेंस, पॉइंट क्रासिंग, नये सिगनल, बर्थिंग ट्रैक, ओवर हेड ट्रैक्शन, सिगनल ओवर लैप, फाउलिंग मार्क, सैंड हम्प, फेसिंग एवं ट्रेलिंग पॉइंट्स, समपार फाटक आदि की संरक्षा परखी। उन्होंने करीमुद्दीनपुर स्टेशन के निकट नवनिर्मित पावर सब स्टेशन का भी निरीक्षण किया और पावर डिस्ट्रीब्यूशन पर पावर सप्लाई वितरण प्रणाली तथा नियंत्रण फीडर, अर्थिंग एवं समुचित आइसोलेशन की व्यवस्था की जाँच की।

रेल संरक्षा आयुक्त मोटर ट्रॉली से करीमुद्दीनपुर -फेफना रेल खण्ड मध्य किमी सं 94/5-6 पर इंटरलॉक समपार संख्या 21 का संरक्षा निरीक्षण किया और गेट मैन से विद्युतीकृत सह दोहरीकृत रेल खण्ड में अपनाये जाने वाले संरक्षा ज्ञान को परखा। इसके बाद वे किमी सं-91/7-8 पर स्थित माइनर ब्रिज सं 46 पर दोहरीकृत लाइन हेतु निर्मित ब्रिज की जांच की तथा सीआरएस आगे बढ़े और किमी सं 89/3-4 से 89/7-8 तक कर्वेचर संख्या 21 पर नई लाइन का इन्डेन्ट एवं ओवरहेड से मानक दूरी मापी, तदुपरांत किमी सं-89/1-2 पर नॉन इन्टरलॉक समपार संख्या-24 का संरक्षा निरीक्षण किया। दोहरीकृत खण्ड के मानकों के अनुसार उपकरणों का संस्थापन जांचते हुए ताजपुरडेहमा इन्टरमिडीएट ब्लॉक हट स्टेशन पहुँचे और रेलवे ट्रैक से ओवर हेड ट्रैक्शन की ऊँचाई तथा क्लियरेंस का मापन किया। वे ब्लाक खण्ड पर आगे बढ़े और किमी सं 82/0-1 पर इन्टरलॉक समपार फटक संख्या-28 का संरक्षा निरीक्षण किया और मानक के अनुरूप सिग्नलिंग गेयरों का संस्थापन परखा और चितबड़ागाँव स्टेशन के   फेसिंग पॉइंट किमी सं-82/1-2 पर स्थित काँटा सं 201A का फेल सेफ पध्दति के अनुरूप गेज टेस्टिंग कर संरक्षा सुनिश्चित करने हेतु गहन परीक्षण किया। इसके बाद उन्होंने चितबड़ागाँव स्टेशन का व्यापक निरीक्षण कर नई लाइन फिटिंग्स पर ओवर हेड ट्रैक्शन लाइन की ऊँचाई, मानक के अनुरूप क्रॉसओवर लाइन विद्युत कर्षण लाइन फिटिंग्स, ओवर हेड ट्रैक्शन लाइन की नई लाइन से मानक ऊँचाई का संरक्षा निरीक्षण किया एवं चितबड़ागाँव-फेफना ब्लाक सेक्शन के मध्य किमी संख्या 78/5-6 पर स्थित मेजर ब्रिज संख्या-39 फाउन्डेशन एवं ट्रैक्शन समेत नवनिर्मित रेल संरचनाओं का गहन निरीक्षण किया। तदुपरांत इस ब्लॉक खण्ड में किमी सं-78/3-4 पर स्थित स्विच एक्सटेंशन जॉइंट संख्या 08 का गहन निरीक्षण करते हुए किमी सं 75/3-4 पर स्थित फेफना स्टेशन पहुँचे और स्टेशन पर रेल संरक्षा आयुक्त ने  दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण के मुताबिक विकसित विभिन्न कार्यो का निरीक्षण किया साथ ही स्टेशन वर्किंग रूल और मेंटेनेंस मैनुअल की जाँच की सभी मानक के  अनुरूप पाया।


रेल संरक्षा आयुक्त ने करीमुद्दीनपुर-ताजपुरडेहमाँ -चितबड़ागाँव-फेफना स्टेशनों पर दोहरीकृत सह विद्युतीकृत स्टैंडर्ड मानकों के अनुसार नई लाइन फिटिंग्स, संस्थापित नए सिगनलों टर्न आउट्स, बैलास्टिंग एवं पैकिंग, कर्वेचर पर क्लियरेंस तथा दोहरीकरण के अनुरूप समपार फाटकों बूम लॉक व हाइट गेजों के संस्थापन सुनिश्चित किया। अंत में रेल संरक्षा आयुक्त ने सीआरएस स्पेशल ट्रेन से फेफना से करीमुद्दीनपुर तक नई लाइन पर 120 किलोमीटर प्रति घंटा की अधिकतम रफ्तार को छुआ और सफलतापूर्वक स्पीड ट्रॉयल पूरा किया।

Post a Comment

0 Comments