To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : सामाजिक कार्यकर्ता की नजर में 'हमारा विधायक कैसा हो...'


मझौवां। आज़ादी के 75 साल बाद भी हमारा क्षेत्र पानी, बिजली, सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य और बेरोजगारी जैसी कई जरुरी मूलभूत सुविधाओं के लिए जूझ रहा है। पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी NH-31 से लोगों को खासी दिक्कतें आती है। क्षेत्रवासियों के लगातार अनुरोध के बाद भी इस हाईवे का निर्माण नहीं हो पाया। 

मौजूदा जनप्रतिनिधियों  के आपसी झगड़े और कमीशन खोरी के चक्कर में क्षेत्र की जनता का भारी नुकसान हो रहा है। आए दिन सड़क हादसे के कारण इलाज़ के अभाव में लोगो की मृत्यु हो जाती है। क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों के इस उदासीन रवैये ग्रामीणों में असंतोष है। क्षेत्र में सबसी बड़ी समस्या गंगा नदी के कटान और कटान पीड़ितों के पुनर्वास की है। करोड़ो रुपए खर्च होने के बाद भी हर साल यह क्षत्रे बाढ़ के क़हर को झेलता है। इस समस्या का कोई निदान नहीं निकाला गया है।

दूसरी ओर सरकारी तंत्र के बदइंतज़ामी के कारण सैकड़ो कटान पीड़ित परिवार सड़क पर अपना जीवन बसर कर रहे है। इन परिवारों को सुध लेने वाला कोई नही है। लोकतंत्र में जनमानस की अपेक्षाएं अपने जनप्रतिनिधि से होती है, मौजूदा स्तिथि में क्षेत्र को एक ऐसा जनप्रतिनिधि की आवश्यकता है जो जाति-धर्म की विभाजनकारी राजनीति से ऊपर उठकर जनसरोकार की समस्याओं को समझे और उससे निदान दिलाए।

पवन कुमार 
सामाजिक कार्यकर्ता, चिंतक।

Post a Comment

0 Comments