To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

फर्जी शिक्षक गिरफ्तार, सीआईएसएफ से है बर्खास्त ; कर्ज से खुला राज

गोरखपुर। दूसरे की डिग्री पर सहायक अध्यापक की नौकरी करने वाले विश्वजीत कुमार को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार फर्जी शिक्षक केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसफ) से बर्खास्त हो चुका है। विश्वजीत कुमार सहजनवां के भीटी रावत का मूल निवासी है, जो रामगढ़ ताल इलाके के भगत चौराहे के पास न्यू रामपुर कॉलोनी में किराए के कमरे पर रहता था। 

बताया जा रहा है कि विश्वजीत सीआईएसएफ में 1998 में आरक्षी के पद पर तैनात था, जिसे किसी शिकायत पर 2003 में उसे बर्खास्त कर दिया गया था। 2011 में विश्वजीत, दिनेश चंद्र के नाम पर सहायक अध्यापक बन गया। कैंपियरगंज के प्राथमिक विद्यालय परसा में उसकी तैनाती हो गई। विश्वजीत जिस दिनेश के नाम की डिग्री का इस्तेमाल कर नौकरी पाया था, उसके पैन व आधार का भी इस्तेमाल करने लगा था। उसने दिनेश के ही पैनकार्ड व पते पर बैंक से कर्ज लेकर एक कार खरीद ली थी। कर्ज न भर पाने पर बैंक की रिकवरी टीम जब दिनेश के घर नोटिस चस्पा करने गई तो उन्होंने इसकी शिकायत बेसिक शिक्षा विभाग में की। जांच में उसकी असलियत खुल गयी और उसके विरुद्ध कैंपियरगंज थाने में मुकदमा पंजीकृत हुआ। फिर उसे सहायक अध्यापक के पद से बर्खास्त कर दिया गया। इसके बाद से एसटीएफ गोरखपुर यूनिट उसकी तलाश में थी। एसटीएफ निरीक्षक सत्यप्रकाश सिंह को सूचना मिली कि विश्वजीत भगत चौराहे पर मौजूद है। वह कहीं जाने की फिराक में है। सूचना को गंभीरता से लेते एसटीएफ ने विश्वजीत को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार करने वाली टीम में एसटीएफ के उपनिरीक्षक आलोक कुमार राय, हेड कांस्टेबल आशुतोष कुमार तिवारी, नसीरूद्दीन आदि शामिल रहे।

Post a Comment

0 Comments