To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

वैद्य डॉ आरपी पांडे से जानें पथरी पित्त पथरी का घरेलू इलाज


पित्त पथरी का घरेलू इलाज 
1. सुबह और शाम पथरी चट पौधे के तीन पत्तों को धोकर रोज सुबह और शाम को खाली पेट मे चबा चबा कर खा ले ऊपर से थोड़ा पानी पी लें। (3 सुबह और 3 शाम) ऐसा लगातार 20-25 दिनों तक करें, यकीन मानिए आपके शरीर में बन रही पथरी टूटकर बाहर आ जाएगी।
2. प्याज को कतरकर जल से धोकर उसका 20 ग्राम रस निकाल कर उसमें 50 ग्राम मिश्री मिलाकर खिलाने से पथरी टूट कर पेशाब के द्वारा बाहर निकल जाती है।
3. मूली का रस 25 ग्राम व यवक्षार 1 ग्राम दोनों को मिलाकर रोगी को पिलायें। पथरी गलकर निकल जायेगी। 
4. नीबू का रस 6 ग्राम, कलमी शोरा 4 रत्ती, पिसे तिल 1 ग्राम (यह खुराक की मात्रा है) शीतल जल के साथ दिन में 1 या 2 बार 21 दिन तक सेवन कराने से पथरी गल जाती है।
5. कुलथी की दाल का सेवन : कुलथी उड़द के समान होती है। यह देखने में लाल रंग की होती है, इसकी दाल बना कर रोगी को दी जाती है। इसे पूरी तरह से पथरीनाशक बताया गया है। गुर्दे की पथरी और गॉल पित्‍ताशय की पथरी के लिए यह फायदेमंद औषधि है। आयुर्वेद में गुणधर्म के अनुसार कुलथी में विटामिन ए पाया जाता। यह शरीर में विटामिन ए की पूर्ति कर पथरी को रोकने में मददगार है।
6. नारियल का पानी और एक नीम्बू, भगवान का नाम जप करके पीयो कुछ दिनों मे अपने आप पथरी निकाल जाती है।
7. लगातार खट्टे नींबू या नींबू पानी का सेवन करने से पथरी का बढ़ना या बनना रुक जाता है और कुछ समय बाद उसका गलना भी शुरू हो जाता है।
8. गौमूत्र का सेवन से भी पथरी का बनना बंद हो गलने की क्रिया शुरू हो जाती है।

आचार्य डॉक्टर आरपी पांडे 
अनंत शिखर सद्गुरु औषधालय 
साकेत पुरी कॉलोनी देवकाली बाईपास अयोध्या 9455831300, 9670108000

Post a Comment

0 Comments