To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : 'मुझसे बिछड़ के खुश हो, ऐसा दिखलाना तुम भी'

बलिया में शरद काव्य गोष्ठी व सम्मान
कवियों ने सुनायी एक से बढ़कर एक रचनाएं

बलिया। भोजपुरी दिशा बोध की पत्रिका 'पाती' व 'साहित्य चेतना समाज' इकाई बलिया के संयुक्त तत्वाधान में नगर के कुंवर सिंह इंटर कॉलेज में डॉ अशोक द्विवेदी के सम्मान में मासिक काव्य गोष्ठी का आयोजन हुआ। कालेज के प्रवक्ता दीपक तिवारी के  वाणी वंदना से कार्यक्रम का आगाज हुआ। प्रेम रस घोलते हुए कालेज के प्रवक्ता व कवि डॉ शशि प्रेमदेव ने 'मेरी तरह ही हंसना - पत्थर हो जाना तुम भी। मुझसे बिछड़ के खुश हो, ऐसा दिखलाना तुम भी' सुना कर गोष्ठी को ऊंचाई दी। शिवजी पांडे रसराज ने मौसम को शब्दों में उतारकर अपनी रचना पढ गोष्ठी को यौवन प्रदान किया।


कइलस अब फेरू परशान हो, हाय रामा कोरोनवा...
कार्यक्रम के संयोजक डॉ नवचंद्र तिवारी ने कोरोना के पुन: उभरते हालात पर सजगता का आह्वान करते हुए 'कइलस अब फेरू परशान हो, हाय रामा कोरोनवा। मनई के तुरलस गुमान हो, हाय रामा कोरोनवा' सुना कर तालियां बटोरी। गोष्ठी में साहित्य अकादमी का प्रतिष्ठित भाषा सम्मान विशिष्ट अतिथि डॉ अशोक द्विवेदी को मिलने की घोषणा पर उन्हें अंग वस्त्र से सम्मानित किया गया। बताते चलें कि यह घोषणा बीते सितंबर माह में ही हुई थी। विगत 40 वर्षों से प्रकाशित हो रही अति प्रतिष्ठित त्रैमासिक भोजपुरी पत्रिका 'पाती' के वे संपादक भी हैं। खुशी से गदगद उन्होंने भी अपनी रचना को प्रस्तुत कर लोगों को भाव-विभोर कर दिया। अशोक पत्रकार ने समय संदर्भ व द्विवेदी जी की उपलब्धि को रेखांकित किया। डॉ कादंबनी सिंह ने 'तुम्हें देख खिल जाने वाले फूलों से भी खफा हुए हम' सुनाकर गोष्ठी को जोश से भर दिया। विजय मिश्र ने अपने चिर-परिचित अंदाज में अपनी रचना को सुनाया तो लोग वाह-वाह कर उठे। हीरा लाल हीरा ने गंवई ठेठ की सहजता को प्रस्तुत किया तो शंकर शरण की गजल  सुन लोग झूमने लगे। इस अवसर पर राजेश चंद्र सिंह, राजेश कुमार सिंह,  प्रेम शंकर राय, विजय बहादुर सिंह, कुमारी पल्लवी,  रामलाल तिवारी, संजय कुमार सिंह, अखिलेश, नीरज आदित्य कुमार, राजीव सिंह, रंजीत कुमार, दिग्विजय सिंह आदि शिक्षक व श्रोतागण मौजूद थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कॉलेज के प्रधानाचार्य संजीव कुमार सिंह व संचालन डॉ शशि प्रेम देव ने किया। 

Post a Comment

0 Comments