To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

अब इस 'विधा' से भी बच्चों को निपुण करेगा बलिया का राधा कृष्ण एकेडमी, ताकि...


बलिया। छात्रों के चातुर्दिक विकास को तत्पर शहर से सटे संवरूबांध स्थित राधा कृष्ण एकेडमी ने स्काउट-गाइड अनुस्थापन कार्यक्रम का शुभारम्भ किया है। विद्यालय के प्रबंध निदेशक आदित्य मिश्र, उप प्रबंध निदेशक अद्वित मिश्र, प्रधानाचार्य डीडी सूर्या साई सर, उप प्रधानाचार्य जीवेश पांडेय व सभी शिक्षकों की मौजूदगी में जिला स्काउट इंचार्ज अरविन्द सिंह ने स्काउट-गाइड से जुड़ी तमाम जानकारी दी, जिसे सुन बच्चों का अन्तर्मन सेवा भाव की भावना से अलंकृत हो उठा।
जिला स्काउट इंचार्ज ने बताया कि भारत स्काउट व गाइड का सिद्धांत 'तैयार रहो' है। भारत स्काउट एवं गाइड की शुरुआत वर्ष 1909 में हुई। आगे चलकर भारत वर्ष 1938 में स्काउट आंदोलन के विश्व संगठन का सदस्य भी बना। वर्ष 1911 में भारत में गाइडिंग की शुरुआत हुई। वहीं, 1928 में स्थापित गर्ल गाइड्स तथा गर्ल स्काउट्स के विश्व संगठन में भारत ने एक संस्थापक सदस्य की भूमिका निभाई। कहा कि स्काउट एवं गाइड का लक्ष्य बच्चों में उन क्षमताओं का विकास करना है, जिससे कि वे एक ज़िम्मेदार नागरिक के रूप में अपनी क्षमताओं द्वारा स्थानीय, राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर योगदान कर सकें।


ईमानदार परिश्रम का कोई विकल्प नहीं : आदित्य मिश्र
प्रबंध निदेशक आदित्य मिश्र ने कहा कि छात्र-छात्राओं को शिक्षा के साथ ही खेल जैसी करियर उन्मुख विधा की ओर भी तत्पर रहना चाहिए। ईमानदार परिश्रम का कोई विकल्प नहीं होता। कोई भी छात्र कड़ी मेहनत व सतत प्रयास से अपना मार्ग प्रशस्त कर सकता है। कहा कि स्काउट्स एवं गाइड्स एक शैक्षिक आंदोलन है, जो हर एक नव जवान को मानवता की सेवा करने का मौका प्रदान करता है।


सिद्धांतों के आधार पर कार्य करता है स्काउट एवं गाइड : अद्वित मिश्र
उप प्रबंध निदेशक अद्वित मिश्र ने बच्चों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि भारत स्काउट एवं गाइड अपने लक्ष्यों, सिद्धांतों एवं विधियों के आधार पर कार्य करता है। इससे न सिर्फ बच्चों का शारीरिक, बौद्धिक व  सामाजिक, बल्कि अध्यात्मिक क्षमताओं का भी ज्ञान मिलता है।  

Post a Comment

0 Comments