To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

परिषदीय स्कूलों में धरातलीय सच देखेंगे राज्यस्तरीय अफसर, ये है बलिया की वस्तुस्थिति


बलिया। परिषदीय स्कूलों में एमडीएम तथा कस्तूरबा विद्यालयों में भोजन वितरण की गुणवत्ता व स्वच्छता की असलियत के साथ ही व्यवस्थाओं का सच परखने के लिए राज्यस्तरीय निरीक्षण किया जाएगा। ये निरीक्षण 9-10 और 13-14 दिसंबर को होंगे। इसके लिए प्रदेश के 75 अधिकारियों को जिले आवंटित कर दिए गए हैं।

गौरतलब हो कि परिषदीय विद्यालयों की बेहतरी पर सरकार खूब धन खर्च कर रही है। इतना कुछ मिलने के बाद विद्यालयों की वास्तविक स्थिति और पठन-पाठन का स्तर आदि किस तरह का है, इसे करीब से परखने के लिए महानिदेशक अनामिका सिंह ने आदेश जारी करते हुए राज्य स्तरीय अधिकारी नियुक्त किए हैं। बलिया के विद्यालयों की जांच के लिए अपर परियोजना निदेशक सरिता तिवारी को नामित किया गया है। 

महानिदेशक स्कूल शिक्षा अनामिका सिंह की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि अधिकारी नगरीय व ग्रामीण क्षेत्रों के कम से कम पांच प्राथमिक व उच्च प्राथमिक और दो कस्तूरबा विद्यालयों में मिड डे मील वितरण की स्थिति को देखेंगे। यह भी देखेंगे कि अब तक जितने अभिभावकों को डीबीटी से धन मिल गया है, उस राशि से यूनीफार्म, स्कूल बैग, स्वेटर व जूता-मोजा आदि खरीदा गया या नहीं। नामित जांच अधिकारियों को हर बिदु की जांच के लिए प्रोफार्मा भी दिया गया है।

ये है बलिया की वस्तुस्थिति

जनपद में कुल 2250 परिषदीय स्कूल हैं। इसमें आपरेशन कायाकल्य के तहत 14 पैरामीटर पर 1362 और 19 पैरामीटर पर 80 स्कूलों में कार्य कराया गया है। इसके अलावा 16 कस्तूरबा स्कूल भी संचालित हैं। इस सत्र में परिषदीय विद्यालयों में अध्ययनरत बच्चों की संख्या 3.33 लाख है, लेकिन यूनीफार्म, स्वेटर, जूता-मोजा आदि के लिए डीबीटी के माध्यम से अब तक 105943 बच्चों के अभिभावकों के खातों में धनराशि भेजी गई है। इस धनराशि से बच्चों के लिए यूनीफार्म, जूता-मोजा, स्वेटर आदि जल्द खरीदने के लिए अभिभावकों से सम्पर्क कर कहा जा रहा है। बीएसए शिवनारायण सिंह ने इसको लेकर आदेश भी जारी किया है। 

Post a Comment

0 Comments