To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : प्लास्टिक का छप्पर और समाज का रहम, दिव्यांग नरेंद्र कुमार के लिए कोई सरकारी योजना है क्या


बांसडीह, बलिया। वैसे तो दिव्यांगों के लिए सरकार तमाम योजनाएं संचालित है, ताकि उन्हें हक एवं सम्मान मिले। उन्हें किसी प्रकार की असहजता महसूस न हो, लेकिन अफसोस। एक भी सरकारी योजना नरेंद्र कुमार पासवान पुत्र छवांगुर को मय्यसर नहीं हो सकी। वह विवश है। दाने-दाने को मोहताज है, पर करें क्या ? इस गरीब दिव्यांग की आवाज कोई नहीं सुन रहा। 
बांसडीह तहसील क्षेत्र पिण्डहरा ग्रामसभा निवासी नरेंद्र कुमार पासवान पुत्र छवांगुर दोनों आंखों से दिव्यांग है। परिवार में पत्नी पूनम एवं दो बच्चियां (एक सोलह व दूसरी एक माह) की है। इनके जीवन यापन में सरकार की कोई योजना या सहायता अभी तक कार्यन्वित न हो पाई है। न तो इनके पास राशन कार्ड है न ही रहने के लिये पक्का घर। खुले आसमां के नीचे प्लस्टिक की छत एवं क्षेत्रीय लोगो के रहमो करम पर इस परिवार का गुजारा चल रहा है। नरेन्द्र पासवान ने बताया कि मैं अपनी पीड़ा ब्लाक सहित तहसील के उच्चाधिकारियों को लिखित रूप से दिया, लेकिन आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला। पिछली सरकार में दिव्यांग पेंशन मिलता था, जो अब बंद है। एक निजी विद्यालय के प्रबंधक की दरियादिली से इनके दवा व भोजन एव अन्य सामग्री की व्यवस्था की जा रही है। इस परिवार ने Purwanchal24 से अपनी पीड़ा शेयर की। कहा कि मेरी आवाज जनपद के अधिकारियों तक पहुंचाने में मदद करें, ताकि मुझ विवश को सरकार की योजनाओं का लाभ मिल सकें। इस मामले पर सचिव से वार्ता करने पर उन्होंने बताया कि राशन कार्ड के लिए कई बार पूर्ति निरीक्षक को पत्र लिखा गया, लेकिन अब तक इनका राशन कार्ड नहीं बन सका। 


विजय कुमार गुप्ता

Post a Comment

0 Comments