To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

विचारों की स्वतंत्र अभिव्यक्ति ही कला अनुभव का मुख्य उद्देश्य


पटना। डायट विक्रम पटना में आयोजित दो दिवसीय कला प्रदर्शनी के समापन सत्र का शुभारम्भ शनिवार को प्राचार्य मंजुला मिश्रा ने किया। प्रथम वर्ष के प्रशिक्षुओं द्वारा लगाई गई पेंटिंग प्रदर्शनी का अवलोकलन करते हुए प्राचार्य मंजूला मिश्रा ने सराहना किया।प्रशिक्षुओं ने एक से बढ़कर एक पेंटिंग बनाई थी, जिस पर हर किसी की नजरे टिक जा रही थी।प्राचार्य ने कला एवं शिल्प के प्रशिक्षु व्याख्याता सुश्री सुमन कुमारी के प्रयासों की  प्रशंसा की।
 
व्याख्याता सुमन कुमारी ने कहा कि अभिव्यक्ति की इच्छा हमारे अस्तित्व की मूल आवश्यकता है। कला वह माध्यम है, जहां हम अपने विचारों को मूर्त रूप प्रदान करते हैं। विद्यार्थियों को अपने अंदर एक अलग नजरिया बनाने का मौका मिलता है। बोली, विचारों की स्वतंत्र अभिव्यक्ति ही कला अनुभव का मुख्य उद्देश्य है। इससे न केवल बच्चों को अपने व्यक्तित्व के विकास में मदद मिलेगी, बल्कि उसमें सामाजिकता की भावना का विकास होगा। इस मौके पर व्याख्याता सावित्री चौधरी, दिव्या, आरती कुमारी, गुड्डू कुमार सिंह इत्यादि मौजूद रहे। 

Post a Comment

5 Comments

  1. Very thankful ma'am to encourage us

    ReplyDelete
  2. Very very nice ma'am and thanku to support us

    ReplyDelete
  3. आपका कार्य काफ़ी प्रेरक, अतुल्यनीय एवं अविष्मरणीय रहा ma'am!

    ReplyDelete
  4. It is a first experience for me .Thank u Suman maim

    ReplyDelete