To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

सनबीम स्कूल बलिया ने हाॅकी के जादूगर को अर्पित की श्रद्धांजलि


बलिया। राष्ट्रीय खेल दिवस तथा हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद जयन्ती पर रविवार को सनबीम स्कूल अगससंडा के प्रांगण में भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें सबसे पहले स्कूल हाॅकी टीम व विद्यालय परिवार ने मेजर ध्यानचंद के तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। विद्यालय के निदेशक डॉ. कुंवर अरुण सिंह ने मेजर ध्यानचंद की जीवन यात्रा से अपने छात्रों और खिलाड़ियों को अवगत कराया। कहा कि मेजर ध्यानचंद सच्चे राष्ट्रभक्त थे। उनके नेतृत्व में भारतीय हाॅकी टीम ने बेहद कठिन परिस्थितियों में खेलों के महाकुंभ ओलंपिक में लगातार तीन बार स्वर्ण पदक जीता। उन दिनों भारतीय हाॅकी टीम के पास ओलंपिक खेलों में शामिल होने के लिए लगने वाले खर्चों की भी कोई व्यवस्था नहीं थी। परंतु खेल के प्रति भक्ति ही थी कि कठिन से कठिन परिस्थितियों एवं आभाव का सामना करते हुए भी मेजर ध्यानचंद जी के नेतृत्व में उनकी टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन के बदौलत विश्व पटल पर भारत का नाम स्वर्ण अक्षरों में लिख दिया। 


मेजर ध्यानचंद जी पूरे विश्व में हाॅकी के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी थे। पूरा विश्व उनको हाॅकी के जादूगर के नाम से बुलाता था। डॉ. सिंह ने अपनी हाॅकी टीम तथा उपस्थित लोगों को अपने उद्बोधन में बताया कि हमारे जीवन में अनुशासन का बहुत बड़ा महत्व है, क्योंकि अनुशासन से किया गया हर कार्य हमें एक दिन सफलता आवश्य दिलाता है। विशेषकर खेल से जुड़ी सफलता सिर्फ हमारी नहीं,  बल्कि पूरे देश की होती है। हमारी हर सफलता और विकास केवल हमारा मान नहीं बढ़ाता, वरन पूरे देश की गरिमा को बढ़ाता है। यही सोच और अनुशासन हमें और हमारे देश को महान बनाता है। इसलिए हम सभी को मेजर ध्यानचंद जी का अनुशरण करते हुए अपने स्वयं का ही नहीं, अपने देश का नाम भी रौशन करने के लिए हमेशा प्रयासरत रहना चाहिए। इस अवसर पर स्कूल की प्रधानाचार्या श्रीमती सीमा, प्रशासक संतोष कुमार चतुर्वेदी, क्रीडाधिकारी पंकज कुमार सिंह, तरुण सक्सेना, प्रीति गुप्ता, संतोष चौरसिया, आलोक सिंह सहित प्रियांशु सिंह तथा अम्बुज यादव आदि खिलाड़ी उपस्थित रहे।

Post a Comment

0 Comments