To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

राज्यपाल और कुलपति के हाथों शिक्षक मनीष सिंह को मिली डाक्टरेट की उपाधि, बलिया में खुशी


बलिया। जिले के चकिया गांव के बाबू साहब ज्ञानपीठ पुरस्कार से नवाजे गये डॉ. केदारनाथ सिंह के साहित्य पर शोध कर हल्दी गांव निवासी महीप किशोर सिंह के पुत्र मनीष कुमार सिंह ने जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर से हिंदी विषय में डॉक्टरेट की उपाधि 27 अगस्त 2021 को मध्यप्रदेश के राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल व कुलपति श्रीमती संगीता शुक्ला की उपस्थिति में प्राप्त किया। इनका शोध विषय 'केदारनाथ सिंह के साहित्यिक कृतित्व का समाजार्थिक समग्र मूल्यांकन (समसामयिक परिदृश्य और केदारनाथ सिंह का काव्य)' रहा है। 

हल्दी के भदौरिया टोला निवासी डॉ. मनीष कुमार सिंह महाबीर सिंह इंटर कॉलेज, बादिलपुर, हल्दी बलिया में प्रवक्ता हिन्दी के पद पर कार्यरत हैं। डॉ मनीष की परिवारिक पृष्ठभूमि साहित्य औऱ शिक्षा जगत के साथ जुड़ी है। इनके दादा स्व. भगवान देव सिंह आजाद हिंद फौज में सैनिक थे, जो आजादी के बाद अध्यापन के क्षेत्र से जुड़े रहे। संयुक्त परिवार में पले-बढ़े डॉ मनीष के परिवार में कुल 50 लोग हैं, जो सयुंक्त परिवार के मायने में आज के समय में एक मिसाल है। परिवार के आधे सदस्य अध्यापक हैं, जबकि शेष प्रत्येक क्षेत्र में अपने श्रेष्ठ भूमिका का निर्वहन राजस्व विभाग, पुलिस विभाग, आबकारी विभाग, वायु सेना, स्वास्थ्य आदि में कर रहे हैं।साहित्य क्षेत्र में इस मौलिक शोध उपाधि के लिए डॉ. मनीष सिंह को खूब बधाईयां मिल रही है। 

Post a Comment

0 Comments