To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

देश की राजधानी में चमका बलिया का सितारा, दिल्ली पत्रकार संघ के अध्यक्ष बने उमेश चतुर्वेदी


बलिया। देश की राजधानी की सबसे बड़ी पत्रकार यूनियन ‘दिल्ली पत्रकार संघ’ के अध्यक्ष पद पर बलिया के लाल उमेश चतुर्वेदी निर्वाचित हुए है। प्रसार भारती में कार्यरत और हिंदी के प्रख्यात स्तंभकार उमेश चतुर्वेदी का निर्विरोध निर्वाचन हुआ है। दिल्ली पत्रकार संघ देश के प्रतिष्ठित पत्रकार संगठन नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट-इंडिया से संबद्ध है। निर्वाचित होने के बाद एनयूजे के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज मिश्र और एनयूजे के संस्थापक सदस्य वरिष्ठ पत्रकार अच्युतानंद मिश्र ने बधाई दी है। दोनों नेताओं ने उम्मीद जताई है कि उमेश चतुर्वेदी के नेतृत्व में दिल्ली पत्रकार संघ, पत्रकार हितों के मोर्चे पर बेहतर काम करेगा। 

जिले के बघांव गांव निवासी उमेश चतुर्वेदी एक सामान्य परिवार से निकल कर दिल्ली गए। पिता स्व. सुरेन्द्र नाथ चतुर्वेदी बेसिक शिक्षा में शिक्षक थे। उनकी शिक्षा-दीक्षा सतीश चंद्र कालेज से हुई है। उन्होंने यहां से हिंदी में एमए करने के बाद दिल्ली का रूख किया। जहां उनका एशिया के सर्वश्रेष्ठ पत्रकारिता शिक्षण संस्थान, भारतीय जनसंचार संस्थान में चयन हुआ। वहां से पत्रकारिता में प्रतिष्ठित स्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम पूरा किया है। चतुर्वेदी ने गुरू जंभेश्वर विश्वविद्यालय, हिसार से पत्रकारिता में एमए की डिग्री भी हासिल की है। श्री चतुर्वेदी को दिल्ली पत्रकार संघ का अध्यक्ष चुने जाने से उनके गांव में हर्ष की लहर है। 

भारतीय जनसंचार संस्थान से पत्रकारिता का डिप्लोमा पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद उमेश चतुर्वेदी ने अमर उजाला के आर्थिक अखबार अमर उजाला कारोबार से कैरियर की शुरूआत की। इसके बाद लंबे समय तक वे दैनिक भास्कर अखबार के दिल्ली ब्यूरो में राजनीतिक संवाददाता रहे। फिर उन्होंने टेलीविजन पत्रकारिता का रूख किया। इंडिया टीवी, जी न्यूज, लाइव इंडिया और साम मराठी में वरिष्ठ पदों पर काम किया है। श्री चतुर्वेदी महुआ समूह के उत्तर प्रदेश केंद्रित चैनल महुआ न्यूज लाइन के संपादक भी रहे हैं। चतुर्वेदी इन दिनों प्रसार भारती के कंसल्टेंट के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।
 
बलिया निवासी उमेश चतुर्वेदी हिंदी के जाने-माने स्तंभकार भी हैं। कई विश्वविद्यालयों के लिए पत्रकारिता का पाठ्यक्रम तैयार करने में भी उन्होंने भूमिका निभाई है। राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद की पाठ्यक्रम निर्माण की कुछ समितियों में बतौर मीडिया विशेषज्ञ उन्होंने अपनी सेवाएं दी है। बतौर विजिटिंग फैकल्टी, दिल्ली विश्वविद्यालय, माखनलाल चतुर्वेदी, भारतीय जनसंचार संस्थान, हिमाचल प्रदेश केंद्रीय विश्वविद्यालय और आइसोम जर्नलिज्म स्कूल में बहुत लोकप्रिय हैं।

Post a Comment

0 Comments