To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया में उफनाई गंगा की तल्खी ने उड़ाई लोगों की नींद, रोकी एनएच की रफ्तार


मझौवां, बलिया। उफनाई गंगा नदी का तल्ख होता तेवर देख तटीय गांवों के लोगों की नींद उड़ गयी है, जबकि बाढ़ विभाग लापरवाह बना हुआ है। बाढ़ व कटान से एनएच 31 तथा गांवों पर मंडराते खतरा से बचाव की मांग को लेकर तटीय गांवों के लोग बुधवार को सड़क पर उतर गये। इससे नेशनल हाइवे की रफ्तार ठहर गई। लोग न सिर्फ बाढ़ विभाग के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे, बल्कि जिम्मेदार अफसरों व ठेकेदारों के प्रति आक्रोश भी व्यक्त कर रहे थे। 

लोगों का कहना था कि शासन से 34 करोड़ धन अवमुक्त होने के बाद भी विभाग ने मानक के अनुरूप काम कराने की बजाय सरकारी धन का बंदरबाट किया। ठेकेदारों ने मानकों की धज्जियां उड़ा कर रख दिया। यही नहीं, काम को आधा-अधूरा छोड़ ठेकेदार फरार हो गये। आरोप लगाया कि विभाग फरार ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय, उनके काली करतूतों पर फ्लड फाइटिंग के तहत पर्दा डालने का काम कर रहा है।

बता दें कि गंगा नदी के जलस्तर में बढ़ाव का सिलसिला जारी है। नदी खतरा विन्दु पार करने के साथ ही तटीय भू-भाग को काटते-छपटते एनएन 31 तक पहुंच चुकी है। इससे आधा दर्जन से अधिक गांवों पर खतरा मंडराने लगा है, जबकि बाढ़ विभाग अभी भी लापरवाही बरत रहा है। इसको लेकर क्षेत्रीय लोगों ने बुधवार की सुबह राष्ट्रीय राजमार्ग 31 को रामगढ़ ढाले पर जाम कर दिया। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग होने लगी। 

सूचना पर पहुंचे थानाध्यक्ष हल्दी राजकुमार सिंह व चौकी इंचार्ज रामगढ़ वीरेंद्र प्रताप दुबे ने कटान पीड़ितों को समझाने का काफी प्रयास किया। लेकिन क्षेत्रीय लोग इस जिद पर अड़े रहे कि जब तक बाढ़ बिभाग का कोई जिम्मेदार अधिकारी मौके पर आकर हम पीड़ितों को बचाने व दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का एलान नहीं करता, तब तक हम लोग धरना देंगे। काफी प्रयास के बाद लोगों ने धरना समाप्त किया।

हरेराम यादव

Post a Comment

0 Comments