To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया में बाढ़ : तेरे वादों पर करके भरोसा, क्या से क्या...


रामगढ़, बलिया। हिंदी फिल्म का एक गीत 'तेरे वादों पर करके भरोसा, क्या से क्या हो गया...' आपने बेशक सुना होगा। लेकिन गाने के इस बोल को केहरपुर गांव के अस्तित्व समापन के साथ चरितार्थ होते देखा गया।केहरपुर केवल एक गांव ही नहीं, बल्कि ग्राम समाज के नाम से जाना जाता था, जो गांव के अंतिम छोर पर स्थित शिवजी सिंह के मकान विलीन होते ही इतिहास बन गया।महज कुछ सेकेंड में पूरी की पूरी इमारत गंगा में विलीन होते वीडियो देख लोग दांतों तले उंगली दबाने पर विवश हो गए। ये वही गां था, जहां परमपूज्य श्री हरेराम ब्रह्मचारी जी का पावन-पवित्र स्मारक भी हुआ करता था।


सन 2015-16 में इसी पाक-पवित्र स्मारक पर बैठ तत्कालीन भाजपा सांसद केहरपुर को आदर्श गांव घोषित करते हुए गोद लेने की घोषणा किये थे। तब वादा तो यह भी किया गया था कि इस गांव की एक इंच भूमि को कटने नहीं दिया जाएगा। इस गांव के ग्रामीण अनिल ओझा, जयप्रकाश ओझा, विमल ओझा का कहना है कि गलती जनप्रतिनिधियों की नहीं, बल्कि भूल हमारी है जो हम इनके वादो पर भरोसा कर बैठते है और भूल जाते है कि...

बरतन वही खनकते है जो अक्सर फूटे होते है। वादे वही होते है जो अक्सर झूठे होते है।।

केहरपुर गांव के ग्रामीण काफी मायूस है कि उनके गांव का अस्तित्व बचाने के लिए गोद लिया गया था, लेकिन समूचा गाव गंगा की गोद में समाते हम सबने अपनी आंखों से देखा।

रवीन्द्र तिवारी

Post a Comment

0 Comments