To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

प्रधानाध्यापिका समेत तीन शिक्षक बर्खास्त, एफआईआर का आदेश


हरदोई। अभिलेख फर्जी पाए जाने पर 69 हजार भर्ती में चयनित एक शिक्षिका समेत तीन शिक्षकों की सेवा समाप्त करते हुए बीएसए ने वेतन रिकवरी व मुकदमा दर्ज कराने का आदेश दिया हैं। ये अध्यापक वर्षों से बेसिक शिक्षा विभाग को चूना लगा रहे थे।
बीएसए हेमंत राव के मुताबिक, भरावन की प्राथमिक विद्यालय दखिलौल में कार्यरत प्रधानाध्यापिका मुन्नी रानी समेत तीन शिक्षकों ने फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर नौकरी पाई थी। इन्हें चिन्ह्ति कर नोटिस भी दी गई थी। जांचोपरांत मुन्नी रानी का जाति प्रमाण पत्र गलत पाया गया। इसके अलावा अंकिता वर्मा सहायक अध्यापक प्राथमिक विद्यालय सांप खेड़ा विकास क्षेत्र बिलग्राम का चयन 69000 भर्ती में हुआ था, वही धर्मेंद्र कुमार सहायक अध्यापक उच्च प्राथमिक विद्यालय चिलौर विकास खंड सांडी का चयन 2015 में हुआ था। इन अध्यापकों के शैक्षिक अभिलेख सत्यापन के उपरांत फर्जी व कूट-रचित पाए गए। 

Post a Comment

0 Comments