To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

भीषण हादसा : खड़ी बस में ट्रक ने मारी टक्कर, 18 की मौत, 27 घायल ; मची चीख-पुकार


लखनऊ। बाराबंकी-अयोध्या हाइवे पर खराब खड़ी डबल ड्रेकर बस को ट्रक ने जोरदार टक्कर मार दी। हादसे में 18 लोगों की मौत हो गई, जबकि 27 लोग घायल हो गए। चीख पुकार के बीच प्रशासन ने रेस्क्यू अभियान चलाया है। पुलिस के अनुसार बस सवार सभी बिहार प्रान्त के मधेपुरा, सहरसा, सुपौल, सीतामढ़ी आदि जिलों के निवासी हैं। पुलिस के मुताबिक, हरियाणा से श्रमिकों को लेकर बिहार जा रही एक डबल ड्रेकर बस अयोध्या सीमा के थाना रामसनेहीघाट अंतर्गत ताला गांव के कल्याणी नदी पुल पर मंगलवार की रात करीब एक खराब हो गयी। बस का एक्सल टूट गया था। इस पर सभी यात्री बस के आगे रोड पर ही बैठ गए। कुछ लेट गए। बस का चालक व खलासी एक्सल को ठीक करने लगे। करीब आधे घंटे बाद एक ट्रक तेज गति से आई और बस को ठोकर मारते हुए 50 मीटर तक आगे ले गई। इससे तकरीबन 45 श्रमिक बस व ट्रक की चपेट में आ गए। चीख चीत्कार के बीच पुलिस मौके पर पहुंची। हादसे में बिहार के मधेपुरा निवासी सुरेश यादव, सीतामढ़ी सैदपुर के इंदल महतो, सहरसा के सिकन्दर मुखिया, सैदपुर सीतामढ़ी के मोनू साहनी, सीभर के जयबहादुर साहनी, सुपौल के बैजनाथ राम व बलराम सहित 15 लोगों की मौके पर मौत हो गई। घटनास्थल से 40 किमी दूर जिला अस्पताल ले जाये गए 30 लोगों में से अररिया जिले के महेश कोट निवासी संतोष सिंह व हरविसगंज के बउवा व नरेश साहनी ने दम तोड़ दिया। रेस्क्यू ऑपरेशन की कमान एसपी यमुना प्रसाद, एएसपी मनोज पांडेय, सीओ सिटी सीमा यादव, रामसनेहीघाट एसडीएम जितेंद्र कटियार, इंस्पेक्टर सच्चिदानंद राय आदि ने संभाली। हालात का जायजा लेने के लिए एडीजी जोन लखनऊ एसएन साबत भी जिलास्पताल व घटनास्थल पर पहुंचे। 

एंबुलेंस की हड़ताल भी बनी बाधा

रामसनेहीघाट की पुलिस जिस समय मौके पर पहुंची, उस समय हाइवे पर चारों ओर चीख चीत्कार का माहौल था। इंस्पेक्टर सच्चिदानंद राय ने बताया कि एंबुलेंस सेवा 108 को कॉल की गई, पर रिस्पांस शून्य रहा। इस पर रेस्क्यू के लिए एसपी यमुना प्रसाद व डीएम आदर्श सिंह को सूचना दी गई। इस पर अधिकारियों ने हड़ताल पर चल रहे एंबुलेंस पायलटों को इमरजेंसी बताकर तत्काल मौके पर पहुंचने के निर्देश दिए। इसके बाद करीब बीस एंबुलेंस जिला मुख्यालय से घटनास्थल पर पहुंच गई। इस करीब एक घंटे के अंदर पुलिस ने जो वाहन जिला मुख्यालय की ओर खाली आता दिखा उसके माध्यम से घायलों को जिला स्पताल भेजवाया। यातायात को वनवे कर दिया गया। दुर्घटनाग्रस्त बस व ट्रक को हाइवे से हटवाया गया। सुबह करीब 4 बजे यातायात सामान्य हो सका। 

डबल ड्रेकर पर सवार थे 125 से ज्यादा श्रमिक 

रामसनेहीघाट के इंस्पेक्टर सच्चिदानंद राय ने बताया कि डबल ड्रेकर बस पर 125 से ज्यादा श्रमिक ठूंसे हुए थे। श्रमिकों ने उन्हें बताया कि वह लोग हरियाणा के कई नगरों में मजदूरी करते हैं। यह बस उन लोगों को घर ले जाने के लिए तैयार हुई थी। इस पर करीब 70 श्रमिक रवाना हुए थे। इसके बाद रास्ते में हरियाणा में ही एक अन्य बस के श्रमिकों को इसी बस में बैठा लिया। इससे बस में श्रमिकों की संख्या 125 से ज्यादा हो गई। इस बीच प्रशासन ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। उसका नंबर 9454417464 हैं। जिला अस्पताल लाएं गए श्रमिकों में से ज्यादातर की हालत गंभीर है। जिनमें से नौ लोगों को केजीएमयू के लिए रेफर कर दिया गया है।सीओ सिटी सीमा यादव ने बताया कि जिला प्रशासन दुर्घटना से बचे श्रमिकों को उनके घरों को भेजवाने के लिए वाहनों का इंतजाम कर रहा है।

Post a Comment

0 Comments