To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बाल खिलाड़ियों के उत्साह प्रदर्शन से चहका सनबीम बलिया का क्रीडांगन, देखें तस्वीरें


बलिया। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा स्टेडियम, जिम (व्यायामशाला) को कोविड के नियमों के तहत खोलने का आदेश होते ही सनबीम स्कूल अगरसंडा ने अपने विद्यार्थियों को विद्यालय प्रांगण में विशेष खेल प्रशिक्षण योग्य प्रशिक्षकों द्वारा देने का निर्णय लिया है। इन खेलों में बास्केटबाल, खो-खो, चेस, वॉलीबॉल, बैडमिंटन, स्केटिंग, थ्रो बॉल आदि न सिर्फ शामिल है, बल्कि इसकी सुविधा पहले से ही विद्यालय में उपलब्ध है।


ज्ञात हो कि बलिया नगर में एकमात्र स्टेडियम तथा नगर के लगभग सभी कालोनियों के पार्क जलमग्न है। बच्चे भी लगभग डेढ़ वर्ष से वैश्विक महामारी के कारण घरों में कैद है। ऑनलाइन माध्यम से उनकी शिक्षा तो जारी है, लेकिन इसका दुष्प्रभाव उनके शरीर और मस्तिष्क पर पड़ रहा है। बच्चो की आंखे, रीढ़ की हड्डी, मांसपेशियां बहुत ही कमजोर होती जा रही हैं। वे अवसादग्रस्त होते जा रहे हैं। इन समस्याओं को ध्यान में रख सरकार द्वारा जारी कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए विद्यालय प्रबंधन ने सायं 4 से 6 बजे तक विद्यालय प्रांगण में विशेष प्रशिक्षण का आयोजन किया है। इस आयोजन में प्रतिभाग करने वाले छात्रों के अभिभावकों से विद्यालय द्वारा लिखित अनुमति ली गई है।इस क्रीड़ा कार्यक्रम के पहले ही दिन करीब 160 बच्चों ने उत्साह के साथ भाग लेकर प्रशिक्षण प्राप्त किया। उनके उत्साह से खेल के प्रति उनका लगाव स्पष्ट दिखा।

चियर फॉर इंडिया कैंपेन भी
इस आयोजन के साथ-साथ  विद्यालय परिवार ने टोक्यो में आयोजित होने जा रहे ओलंपिक खेल में भारतीय खिलाड़ियों के उत्साहवर्धन हेतु के लिए चियर फॉर इंडिया कैंपेन का भी आयोजन किया है। इस आयोजन में भाग लेने वाले छात्रों की सुविधा को विद्यालय से वाहन की भी व्यवस्था की गई है। आयोजन में शामिल छात्रों का स्वागत करते हुए विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष संजय कुमार पांडेय तथा सचिव अरूण कुमार सिंह ने स्वस्थ रहने का गुर बताया। 

छात्रों के हित में यह आयोजन : निदेशक
विद्यालय के निदेशक डॉ कुंवर अरूण सिंह ने कहा कि स्वस्थ तन में ही स्वस्थ मस्तिस्क का विकास होता है, जिसमें खेल महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कहा कि विद्यालय परिवार ने सदैव क्रीड़ा को सर्वांगीण विकास का आधार माना है। अपने विद्यार्थियों को खेल के प्रति प्रेरित करने का हर संभव प्रयास करता रहा है। इसलिए यह आयोजन छात्रों के हित को ध्यान में रखते हुए किया गया है।

बोली प्रधानाचार्य
प्रधानाचार्य श्रीमती सीमा ने प्रांगण में विद्यार्थियों को देखकर अत्यंत हर्ष व्यक्त की। कहा कि बच्चे न केवल घर अपितु विद्यालय का भी रौनक है। इस आयोजन में विद्यार्थियों पर संपूर्ण ध्यान दिया जाएगा।

Post a Comment

0 Comments