To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बलिया : निर्माणाधीन GGIC की जांच करेगी डीएम की टास्क फोर्स


सिकन्दरपुर, बलिया। इलाके के डूहा बिहरा में राजकीय बालिका के निर्माण में हो रहे विलम्ब तथा मानक की अनदेखी का  जिलाधिकारी अदिति सिंह ने न सिर्फ संज्ञान ली, बल्कि अधिशासी अभियंता (लोक निर्माण विभाग) की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय टीम भी गठित कर दी है। टीम को निर्देश दिया गया है कि निर्माण कार्य की गुणवत्ता का भौतिक सत्यापन कर एक सप्ताह के अंदर रिपोर्ट प्रस्तुत कर दे। 
वर्ष 2019 में प्रदेश सरकार से स्वीकृति के बाद लिलकर में जीजीआईसी निर्माण की कार्यदायी संस्था सी&डीएस को 61.35 लाख रुपये मुहैया कराया गया था। लेकिन तत्कालीन डीआइओएस भाष्कर मिश्र की रिपोर्ट के आधार पर उस विद्यालय को डूहा विहरा स्थानांतरित कर दिया गया। मार्च
2020 में कार्यदायी संस्था को डूहा विहरा में जमीन उपलब्ध हो गयी। बावजूद इसके GGIC का निर्माण गति नहीं पकड़ सका। एक साल से अधिक समय में महज नींव ही तैयार हो सकी है। ग्रामीणों ने इसकी शिकायत कई बार जिलास्तरीय अधिकारियों से की थी। लगातार मिल रही शिकायतों के बाद जिलाधिकारी ने टास्क फोर्स का गठन कर रिपोर्ट देने का फरमान जारी कर दिया है। समिति में सह जिला विद्यालय निरीक्षक और तहसीलदार सिकन्दरपुर को सदस्य नामित किया गया है।

उप निदेशक ने जांच को भेजा पत्र
उप शिक्षा निदेशक विवेक नौटियाल ने कार्यदायी संस्था के निदेशक सहित जिला विद्यालय निरीक्षक को पत्र भेज कर तीन दिन के अंदर उपभोग प्रमाण पत्र और कार्य गुणवत्ता रिपोर्ट तलब किया है। 14 जुलाई को जारी पत्र के माध्यम से यह अपेक्षा की गई है कि जिलाधिकारी द्वारा नामित टास्क फोर्स तकनीकी टीम के सहयोग से निर्माणाधीन जीजीआईसी के कार्यों की गुणवत्ता सहित अन्य सम्बंधित बिंदुओं की क्रमवार जांच कर तत्काल रिपोर्ट प्रस्तुत करे, ताकि कार्यदायी संस्था को अगली क़िस्त उपलब्ध कराई जा सके।

Post a Comment

0 Comments