To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

एक साथ घर से निकली पूरे परिवार की अर्थी


शाहजहांपुर। कच्चा कटरा मोहल्ले में दवा कारोबारी अखिलेश गुप्ता, उनकी पत्नी रिशू व दो बच्चों की अर्थी एक साथ घर से निकली।शाहजहांपुर के लोगों ने एक साथ पहली बार पूरे परिवार की लाशें श्मशान ले जाते हुए देखीं। यह हंसता-खेलता परिवार सोमवार को सूदखोर अविनाश उर्फ आकाश वाजपेयी की प्रताड़ना से त्रस्त होकर फांसी का फंदा बनाकर मौत को गले लगा लिया था। सुसाइड लेटर के आधार पर पुलिस ने सूदखोर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। 

बताया जा रहा है कि दिवाली पर ही दवा कारोबारी अखिलेश गुप्ता (43) ने नया मकान बनावा कर गृहप्रवेश किया था। परिवार में पत्नी रिशू (40), बेटा शिवांग (12) व 6 वर्षीय बेटी अभिजीता थी। अखिलेश गुप्ता आर्थिक तंगी से गुजर रहा था। मोहल्ले का एक व्यक्ति अखिलेश के घर सोमवार को दोपहर बाद पहुंचा तो दरवाजा थोड़ा खुला था। अखिलेश को आवाज दी, लेकिन जवाब नहीं आया। उन्हें कुछ शक हुआ। वह कुछ और लोगों को लेकर आए और अखिलेश के घर में घुसे। मकान में नीचे दवा आदि का स्टोर था। दूसरी मंजिल पर लाबी में छत पर पड़े जाल से अखिलेश और उनकी पत्नी रिशू के शव लटक रहे थे। इसके बाद अंदर कमरे में पूजा घर के बाद बेटी अभिजीता और उसके पीछे बेटा शिवांग लटका हुआ था। पुलिस ने पूरे मकान की तलाशी ली। एक मेज पर एक सुसाइड लेटर मिला। अखिलेश मूल रूप से बरेली के फरीदपुर के रहने वाले थे। 

Post a Comment

0 Comments