To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बलिया : महंत सत्य प्रकाशानंद जी ने छोड़ा शरीर, भक्तों में शोक की लहर


मनियर, बलिया। ब्रह्म विद्यालय एवं आश्रम छोटका राजपुर बक्सर (बिहार) की शाखा बलिया के मनियर थाना क्षेत्र के घोघा कुटी के महंत सत्य प्रकाशानंद जी (87) ने नश्वर शरीर त्याग कर मंगलवार की सुबह परमधाम को सिधार गए। इसकी सूचना मिलते ही भक्तों में शोक की लहर दौड़ गई। घोघा कुटी पर भक्तों ने उनका अंतिम दर्शन किया।अंतिम संस्कार सरजू नदी के तट पर किया गया। 
बताते चलें कि वह 2001 में घोघा कुटी के महंत बनाए गए थे। इसके पूर्व वह सीसवन, रानीगंज व राजपूर कुटी पर भी रह चुके थे। गृहस्थ जीवन में रहते हुए वह छोटका राजपुर में परम संत श्री श्री 1008 स्वामी शिव धर्मानंद जी महाराज से दीक्षा लिए थे। कुछ वर्षों बाद उन्हें सन्यासी भेष मिला। सभी कुटियों का संचालन वर्तमान गद्दी आसीन छोटका राजपुर अध्यात्मिक गुरु श्री श्री 108 स्वामी सत्यानंद जी महाराज के निर्देशन में होता है। 

महंत सत्य प्रकाशानंद जी का गृहस्थ जीवन

बताया जा रहा है कि महंत सत्य प्रकाशानंद जी के गृहस्थ जीवन का नाम केदार सिंह था। वह राजा राम सिंह के पुत्र तथा बलिया जनपद के सुखपुरा थाना क्षेत्र अंतर्गत भलूहीं गांव के मूल निवासी थे। उनके परिवार में पत्नी हीरा देवी, पुत्र रविंद्र सिंह व नरेन्द्र सिंह तथा पुत्री श्रीमती रामलता, श्रीमती प्रेमदा व ‌श्रीमती अंजू हैं। उनकी पत्नी को छोड़कर पूरा परिवार घोघा कुटी पर अंतिम दर्शन करने के लिए पहुंचा था। उनकी पत्नी अस्वस्थ थी, लिहाजा अंतिम दर्शन नहीं कर पाई।

वीरेन्द्र सिंह

Post a Comment

0 Comments