To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बलिया : गंगापुत्र त्रिदंडी स्वामी ने श्रद्धालुओं को वर्चुअली दिया कोरोना से बचाव का मंत्र


बलिया। श्रीलक्ष्मीनारायण गंगापुत्र त्रिदंडी स्वामी महाराज ने कहा कि यह समय संक्रमण का है। ऐसे में देश के सभी घरों में हवन होना चाहिए। इससे विषाणु मरते हैं। वे मंगलवार को गड़हांचल के बघौना में अपने अनुयायियों को वर्चुअली सम्बोधित कर रहे थे। त्रिदंडी स्वामी ने कहा कि देश अभी भी कोरोना से काफी हद तक बचा हुआ है तो इसमें यज्ञ का अहम रोल है। आधुनिक काल में यज्ञ कम हो रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप वातावरण में रहने वाली नकारात्मक शक्तियां पूरी तरह से नष्ट नहीं हो रहीं। वर्तमान में बड़े यज्ञ सम्भव नहीं हैं। इसलिए सबको घरों में ही हवनादि करना चाहिए। यह पूरे देश में एकसाथ होगा तो कोरोना पूरी तरह से खत्म हो जाएगा। वरना 2023 तक रह रह कर सताता रहेगा।

उन्होंने कहा कि कोरोना से बचने के लिए सबको सरकार के तमाम गाइडलाइंस का पालन करना चाहिए। बिना ठोस वजह घरों से बाहर न निकलने की नसीहत देते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचने के लिए रोजाना ओम का उच्चारण कम से कम ग्यारह बार करना श्रेयस्कर होगा। क्योंकि यह वायरस स्वसन तंत्र पर हमले कर रहा है। जबकि ओम का लंबा उच्चारण के रेस्पिरेटरी सिस्टम को दुरुस्त करता है। त्रिदंडी स्वामी ने कहा कि बीमारी होने की स्थिति में सबसे पहले डॉक्टर के पास जाना चाहिए, न कि किसी साधु-संत के पास। जब डॉक्टर जवाब दें तभी महापुरुषों के सानिध्य में जाना चाहिए। हाल के दिनों में ऑक्सीजन की कमी को लेकर मचे हाहाकार को लेकर कहा कि किस तरह पर्यावरण को क्षति पहुंचाई गई, यह सर्वविदित है। अपने आसपास देखें कि खाली निष्प्रयोज्य जमीन है तो वहां वृक्ष लगाएं। आने वाले समय में वृक्ष नहीं रहेंगे तो जीवन ही नहीं बचेगा। प्रत्येक घर में तुलसी के पौधे की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि इससे भी जीवाणु और विषाणु नष्ट होते हैं। इसके साथ ही महापुरुषों का ध्यान और आध्यात्मिक माहौल को बनाये रख कर सकारात्मक रहने को त्रिदंडी स्वामी ने प्रेरित किया। वर्चुअल प्रवचन कार्यक्रम में बघौना के सैकड़ों लोग जुड़े थे।

Post a Comment

0 Comments