To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बलिया : शिक्षक-शिक्षामित्रों की असमय मौत पर विशिष्ट बीटीसी संगठन ने उठाई यह मांग


बलिया। विशिष्ट बीटीसी शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन ने प्रदेश सरकार से मांग किया है कि कोरोना संक्रमण से काल के गाल में समा चुके शिक्षक और कर्मचारियों के परिजनों को 50 लाख रुपए की आर्थिक सहायता तथा उनके परिवार के एक सदस्य को तत्काल नौकरी दी जाए। साथ ही मृतक शिक्षकों के वे आश्रित, जो बीटीसी, बीएड या फिर डीएलएड आदि की योग्यता रखते हैं, उन्हें शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) से छूट देकर सहायक अध्यापक के पद पर नियुक्त किया जाए या स्नातक व इंटर पास हैं, उन्हें लिपिक के पद पर नियुक्त किया जाय।
एसोसिएशन आजमगढ़ मण्डल के अध्यक्ष व प्रदेश मंत्री अनिल कुमार वर्मा ने कहा कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दौरान शिक्षक कर्मचारी जान की परवाह किए बिना पूरी तन्मयता से पंचायत चुनाव को संपन्न कराया है। यद्यपि कि उत्तर प्रदेश सरकार अथवा जिला प्रशासन ने कोरोना से बचाव के लिए शिक्षक कर्मचारियों को कोई सुविधा उपलब्ध नहीं कराई। कहा कि कुछ चुनाव प्रशिक्षण एवं मतदान तथा कुछ मतगणना में भाग लेने के दौरान संक्रमित होकर सैकड़ों शिक्षक कर्मचारी काल के गाल में समा चुके हैं, जिनकी सुधि लेने वाला कोई नहीं है। बलिया जनपद में संक्रमित होकर दिवंगत होने वाले शिक्षक व शिक्षामित्रों की संख्या 28 हो चुकी है। श्री वर्मा ने दिवंगत शिक्षक कर्मचारियों के परिजनों को तत्काल 50 लाख रुपए की आर्थिक सहायता मुहैया कराते हुए उनके परिवार के एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी देने की मांग की। 

Post a Comment

0 Comments