To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बलिया : विशिष्ट बीटीसी शिक्षक बेलफेयर एसोसिएशन की वर्चुअल मीटिंग, प्रदेश अध्यक्ष ने इन विन्दुओं पर किया संघर्ष का ऐलान


बलिया। विशिष्ट बीटीसी शिक्षक बेलफेयर एसोसिएशन बलिया की वर्चुवल बैठक रविवार को जिलाध्यक्ष डा. घनश्याम चौबे की अध्यक्षता में हुई। इसमें बतौर मुख्य अतिथि प्रदेश अध्यक्ष संतोष तिवारी एवं विशिष्ट अतिथि प्रान्तीय कोषाध्यक्ष दिलीप चौहान के साथ ही प्रदेश वरिष्ठ मंत्री तारकेश्वर शाही, प्रदेश उपाध्यक्ष अनंत सिह, संगठन मंत्री पवन राय, प्रदेश संयुक्त मंत्री डा. दुर्गेश प्रताप सिंह व प्रवीण राय शामिल रहे। इस वर्चुअल मीटिंग में सैकड़ों शिक्षकों ने प्रतिभाग किया। संचालन जिला मंत्री धीरज राय ने किया। 

प्रदेश अध्यक्ष ने कोरोना संक्रमण से प्रदेश भर में शिक्षक, कर्मचारियों व अधिकारियों के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त करते हुए उनके परिवार को यथा संभव मदद की बात कही। प्रत्येक शिक्षक के परिवार को न्यायालय की मंशा के अनुरुप एक करोड़ रुपया व आश्रित को उसकी योग्यता अनुसार नौकरी दिलाने के लिए लड़ाई लड़ने की बात दोहराई। साथ ही नवनियुक्त शिक्षकों के वेतन, एरियर व पुरानी पेंशन योजना को बहाल कराने के लिए सरकार से आर-पार की लड़ाई का ऐलान किया। विशिष्ठ अतिथि प्रान्तीय कोषाध्यक्ष दिलीप चौहान ने बताया कि कोरोना संक्रमण की भयावहता को भापते हुए संगठन ने सर्वप्रथम चुनाव आयोग व प्रदेश सरकार से मांग की थी कि पंचायत  चुनाव स्थगित कर दिए जाए, वरना  दुष्परिणाम दिखेगा। प्रशिक्षण से लेकर मतगणना तक संगठन यह मांग करता रहा, परन्तु सरकार व चुनाव आयोग ने एक न सुनी। आखिरकार प्रदेश मे लगभग 2500 शिक्षक, कर्मचारी व अधिकारी काल के गाल में समा गए।

कितनों का घर उजड गया। एक अदद कमाने वाला भी नहीं रहा। यही नहीं संक्रमण ट्रान्सफरमेशन की वजह से कईयों के घरो में और भी जाने चली गयी। इसका कौन जिम्मेदार है ? यह सीधे सीधे हत्या का मामला की गयी। मृतक के परिवार को न्याय दिलाकर ही संगठन दम लेगा। प्रदेश वरिष्ठ मंत्री तारकेश्वर शाही ने कहा कि चुनाव ड्यूटी के दौरान 1621 शिक्षकों ने कोरोना से जान गंवाई। लेकिन प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री ने सिर्फ तीन शिक्षकों की मौत कोरोना से होना माना। यह सरकार की व बेसिक शिक्षा विभाग के मंत्री व उच्चाधिकारियों की संवेदनहीनता को दर्शाता है। कहा कि यह संक्रमण का दौर है। इसमें खुद को बचाते हुए कार्य करना है। कहा कि एनपीएस से आच्छादित शिक्षकों व कर्मचारियों की मौत की स्थिति में उनके परिवार को पुरानी पेंशन के लाभों को दिवालने के लिए संगठन प्रयास कर रहा है।

वर्चुअल बैठक में शिक्षक जयशंकर ने 'कोरोना से बच के रह इहे बा गोहार हो...' गीत गाकर कोरोना से मृत शिक्षकों व कर्मचारियों को श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर प्रान्तीय पदाधिकरियों के साथ-साथ उपस्थित सैकड़ों जिला पदाधिकारियों व शिक्षकों ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किए। जिलाध्यक्ष डा. घनश्याम चौबे ने उपस्थित सभी पदाधिकारियों के प्रति आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर जिला संरक्षक अरूण सिंह, वरिष्ठ उपाध्यक्ष अवनीश सिंह, नित्यानंद पांडे, जय शंकर, अरविंद श्रीरश्मी, मु.अतहर इर्शाद, राजकुमार यादव, राजकुमार गुप्ता, विनय विश्वात्मा, शर्मानाथ यादव, मृत्युंजय शर्मा, रविन्द्र तिवारी, संजय वर्मा, अनिल सिंह, जनार्दन दुबे, सुरेश वर्मा, विजय कुमार, अखिलेश उपाध्याय, जितेंद्र यादव, अभय राठौर, अनुज कुमार सिंह, नीरज कनौजिया, बृजेन्द्र कुमार, अमित शर्मा, उपेंद्र नारायन सिंह, योगेंद्र वर्मा, राघवेंद्र सिंह, सुनील गुप्ता, अमित शर्मा, मनीष सिंह, सुशील कुमार, भारत राम, सुरेंद्र चौधरी, धनंजय पाठक, संतोष पाण्डेय, राजेश गुप्ता, अजीत सिंह, सुनील यादव, मनोज यादव आदि ने अपने विचार व्यक्त किये।

Post a Comment

0 Comments