To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

सरकार को 'कटघरे' में खड़ा करने पर तुला बलिया का बाढ़ विभाग और उसका ठेकेदार


बलिया। शासन-प्रशासन की मंशा एक बार फिर बाढ़ विभाग और उसके ठेकेदारों की वजह से 'कटघरे' में खड़ा होती दिख रही है। क्योंकि गंगा नदी के जलस्तर में बढ़ाव शुरू है, लेकिन बचाव कार्य रफ्तार नहीं पकड़ सका है। ऐसे में यदि नदी में बाढ़ आ गई तो हाय-तौबा मचना लाजमी है। बुधवार को बचाव कार्यो का जायजा लेने पहुंचे बाढ़ विभाग के अधिशासी अभियंता संजय कुमार मिश्र का तेवर काफी तल्ख रहा। अधिशासी अभियंता ने न सिर्फ कार्य की कच्छप गति पर नाराजगी जताई, बल्कि ठेकेदार को अंतिम चेतावनी भी दी। 
गौरतलब हो कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार बलिया में नासूर बन चुके बाढ़ व कटान को लेकर गंभीर है। सरकार ने गंगा नदी के डेंजर प्वाइंट हुकुमछपरा (पचरुखिया-रामगढ़) के लिए करोड़ों रूपये जारी किया। इसके बदौलत काम भी चल रहा है, लेकिन बाढ़ एवं कटान के नाम पर मलाई काट चुके बाढ़ विभाग के कुछ अफसर व ठेकेदार पुरानी राह ही चल रहे है। गंगा नदी के गंगापुर डगरा के समीप चल रहे कटान रोधी कार्यों में मानक की खुलेआम धज्जी उड़ रही है। जहां पानी की तलहटी में 15 मीटर तक बालू की बोरी भरकर प्लेटफार्म बनाना था, अब वह पानी में डूबना शुरू हो गया है। पानी बढ़ते ही यह पता नहीं चल पाएगा कि बालू की बोरी डाली गई है या नहीं। बुधवार को पहुंचे अधिशासी अभियंता ठेकेदारों द्वारा कराए जा रहे कटान रोधी कार्य की शिथिलता देेेख दंग रह गये। उन्होंने बाढ़ विभाग के साइड इंचार्ज से सवाल किया तो जबाब मिला, साहब ठेकेदार हमारी बात नहीं सुनते हैं। अधिशासी अभियंता ने मातहतों के साथ ही ठेकेदारों की जमकर क्लास लगाई। दो टूक कहा कि काम में शिथिलता बर्दाश्त नहीं करेंगे। अभियंताओं से कहा कि अपने-अपने साइड पर खड़े होकर काम कराए। यदि कोई ठेकेदार आपकी बात नहीं मानता है तो तत्काल मुझे अवगत कराये, उसके फर्म के खिलाफ कठोर कार्रवाई के लिए लिखा जाएगा। अधिशासी अभियंता ने ठेकेदार से  साफ शब्दों में कहा कि यह अंतिम वार्निंग है।संसाधन व मजदूर बढ़ाए, अन्यथा काम छोड़कर चले जाएं। उन्होंने गंगापुर डगरा के समीप रिवेटमेंट कार्य की गुणवत्ता पर  नाराजगी जाहिर की। कहा कि संसाधन बढ़ाकर हर हाल में 15 जून से पहले काम पूर्ण होना चाहिए। 

साइड न छोड़े इंचार्ज, वरना कार्रवाई तय

निरीक्षण के दौरान अधिशासी अभियंता ने पर्याप्त मजदूर व बोरी न होने पर ठेकेदार की जमकर फटकार लगाई। वहीं, स्पर के बगल में अपरन के बीच खाली स्थान को तत्काल भरने का दिशा निर्देश दिया। जूनियर इंजीनियर व सहायक अभियंता से कहा कि आज से साइड इंचार्ज सुबह 8:00 बजे से रात्रि 8:00 बजे तक मौके पर रहेंगे। कोई भी ठेकेदार काम में अनियमितता या संसाधन की कमी करता है तो अवगत कराएं। साइड इंचार्ज साइड छोड़कर बिना अनुमति कहीं नहीं जाएगा, अन्यथा कार्रवाई तय है। इस मौके पर बाढ़ विभाग के एसडीओ कमलेश कुमार, जूनियर इंजीनियर प्रशांत कुमार व सहायक अभियंता एके चतुर्वेदी मौजूद रहे।

बिना जाली ही डाली जा रही थी बोरियां 

सोनारटोला के समीप स्पर के नोज  के नीचे गंगा की तलहटी में 15 मीटर तक जाली में बालू की बोरियां भरकर डालनी है,  जहां बिना जाली के ही बालू की बोरी डाली जा रही थी। यह स्थिति देख अधिशासी अभियंता हतप्रभ रह गए। उन्होंने मातहतों को फटकार लगाते तत्काल जाली में बालू की भरी बोरियों को डालने का निर्देश दिया। चेताया कि हर हाल में काम गुणवत्तापूर्ण होना चाहिए। यदि दोबारा ऐसी गलती देखने को मिली तो कार्रवाई तय है।

Post a Comment

0 Comments