To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बलिया में ब्लैक फंगस का 6 केस, ऐसे बरतें सावधानी ; क्योंकि...


बलिया। वैश्विक महामारी कोरोना से देश अभी उबरा भी नहीं, तब तब म्यूकर माइकोसिस इंफेक्शन 'ब्लैक फंगस' ने सबकी नींद उड़ा दी है।बलिया भी इससे अछूता नहीं रहा। यहां एक साथ ब्लैक फंगस के छः मरीज मिलने से लोग सकते में है। फिलहाल सभी मरीजों का उपचार वाराणसी में चल रहा है। 
सीएमओ डा. राजेन्द्र प्रसाद ने बताया कि बलिया के उन छः लोगों का इलाज बीएचयू में चल रहा है, जिनमें ब्लैक फंगस की आशंका जताई गई है। सीएमओ के अनुसार ब्लैक फंगस का जिले में इलाज की सुविधा उपलब्ध नही है। मेडिकल कालेज में चिकित्सकों को ट्रेनिंग दी जाती है। यहां मेडिकल कालेज भी नहीं है। सीएमओ ने बताया कि बलिया के किसी व्यक्ति की ब्लैक फंगस से मौत की अधिकारिक पुष्टि अभी तक नहीं है।

इन्हें ज्यादा खतरा
सीएमओ ने बताया कि ऐसे कोरोना पॉज़िटिव व्यक्ति जिनका शुगर कंट्रोल नहीं रहता। कैंसर का भी उपचार करा रहे हों या अन्य किसी रोग के लिए स्टेरॉयड या एंटीबायोटिक दवा का ज्यादा मात्रा में सेवन कर रहे हों या फिर ऑक्सीजन सपोर्ट पर हों, उन्हें ब्लैक फंगस का खतरा ज्यादा रहता है। इससे बचने के लिए विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। यदि किसी भी व्यक्ति को बीमारी के लक्षण महसूस होते हैं तो वह तुरन्त स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों से संपर्क करें, ताकि समय रहते इलाज संभव हो सके।

ब्लैक फंगस के लक्षण
-नाक से काला द्रव या खून की पपड़ी निकलना।
- नाक का बंद होना।
-सिरदर्द या आंखों में दर्द।
-आंखों के आसपास सूजन आना, धूंधला दिखना, आंखे लाल होना, आंखों की रोशनी जाना, आंख खोलने और बंद करने में परेशानी महसूस करना।
-चेहरा सुन्न हो जाना, चेहरे में झुरझुरी महसूस करना।
-मुंह खोलने या किसी चीज को चबाने में परेशानी होना।

ब्लैक फंगस से बचने के उपाय 
-ब्लैक फंगस के लक्षण जांचने के लिए लगातार अपने चेहरे पर ध्यान रखें। देखते रहें कि नाक, आंख या गाल पर तो नहीं है या फिर किसी भाग को छूने पर दर्द तो नहीं हो रहा है। इसके अलावा अगर दांत गिर रहे हों या मुंह के अंदर सूजन तथा काला भाग दिखे तो सतर्क रहें। 
-डॉक्टर की सलाह के अनुसार लगातार उपचार करवाएं। अपने आप किसी भी तरह की दवा का सेवन न करें।
-ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने का पूरा प्रयास करें।
-किसी अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित हों तो उनकी दवाई का सेवन करते रहें।
-किसी निर्माणाधीन इलाके में जाने पर मास्क पहनें, बगीचे में जाएं तो पैंट, फुल आस्तीन शर्ट व ग्लब्स पहनें।

Post a Comment

0 Comments