पत्नी का शव साइकिल से ही लेकर चल पड़ा पति, फिर...


जौनपुर। शव यात्रा में शामिल होना या फिर शव को कंधा देना, उत्तम माना गया है। लेकिन कोरोना संकट में शव को कंधा देने से लोग परहेज करने लगे है। अपने पराए हो जा रहे है। पड़ोसी-रिश्तेदार भी आगे नहीं आ रहे है। एक ऐसी ही घटना की तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। हृदय को झकझोर देने वाली यह तस्वीर जौनपुर की है। 
अम्बरपुर निवासी तिलकधारी सिंह की पत्नी राजकुमारी (50) बीमार चल रही थी।सोमवार को जिला अस्पताल में मौत हो गयी। वहां से तिलकधारी पत्नी का शव लेकर घर पहुंचे। अंतिम संस्कार के लिए पड़ोसियों का सहयोग मांगा, लेकिन कोई भी आगे नहीं आया। बेबस तिलकधारी को कोई उपाय नहीं दिखा तो वह जीवनसंगिनी का शव साइकिल पर रखकर अंतिम संस्कार के लिए निकल पड़ा। कुछ ग्रामीणों का शर्म तब और शरमा गया, जब गांव की सरहद पर पति को दाह संस्कार करने से रोक दिया गया। सूचना पर पहुंची जौनपुर पुलिस ने इंसानियत की मिसाल पेश की। पुलिस ने न सिर्फ कंधा दिया, बल्कि अंतिम संस्कार के लिए सामान भी खरीदा। शव को राम घाट  तक पहुंचाने के लिए वाहन भी उपलब्ध कराया। जौनपुर पुलिसकर्मियों की इस पहल की सराहना हो रही है। 

Post a Comment

0 Comments