To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बलिया : बिना मुहर्त टूटा संकल्प, प्रधानी के लिए चट मंगनी-पट ब्याह, देखें सात फेरे का Live वीडियो


बलिया। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव से जुड़ा एक दिलचस्प मामला सामने आया है, जिसकी चर्चा हर जुबां पर है। होना भी लाजमी है, क्योंकि प्रधानी का चुनाव लड़ने के लिए 45 वर्षीय हाथी सिंह ने अपना संकल्प तोड़ दिया है। गांव की प्रधानी सीट महिला के लिए आरक्षित हुई तो हाथी सिंह ने आनन फानन में बिना शुभ मुहर्त का शादी रचा ली है, ताकि चुनाव में उनकी 'जीवन साथी' प्रत्याशी बन सकें। 


यह दिलचस्प मामला मुरलीछपरा ब्लॉक की ग्राम पंचायत शिवपुर कर्णछपरा का है। गांव निवासी जितेंद्र सिंह हाथी प्रधान पद की तैयारी में काफी दिनों से जुटे थे। इन्हें उम्मीद थी कि इस बार वे प्रधान पद के लिए अवश्य चुने जायेंगे, लेकिन आरक्षण सूची जारी होते ही हाथी सिंह की उम्मीद टूट गयी। कारण कि उनकी ग्राम पंचायत महिलाओं के लिए आरक्षित हो गई। समर्थकों ने सुझाव दिया कि वह शादी कर लें, ताकि पत्नी चुनाव लड़ सकें। जीवन में कभी शादी नहीं करने का संकल्प लेने वाले हाथी सिंह ने समर्थकों के सुझाव पर शादी की तैयारी में जुट गये।कारण वह फैसला बदलना पड़ा। मेरी मां 80 साल की हैं और वह चुनाव नहीं लड़ सकती थीं। इस कारण भी शादी करने का फैसला लिया। अब निर्णय समाज के हाथ में है।बिहार में कोर्ट मैरिज के बाद हाथी सिंह ने 26 मार्च को गांव के धर्मनाथजी मंदिर में शादी की। कहा कि 13 अप्रैल को नामांकन से पहले शादी करनी थी। इसलिए जल्दबाजी में शादी का आयोजन किया गया। उनकी दुल्हन स्नातक की पढ़ाई कर रही है। वह ग्राम पंचायत चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।

Post a Comment

0 Comments