छत्तीसगढ़ में नक्सली हमला : 22 जवान शहीद, कई नक्सली ढेर


नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ के बीजापुर में शनिवार को नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ में 22 जवान शहीद हो गए हैं। कई जवान लापता हैं। लापता जवानों की तलाश के लिए सुरक्षाबल का सर्च अभियान जारी है। घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह तथा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दुख व्यक्त किया है।
बीजापुर से करीब 75 किमी दूर सिलगेर गांव के पास के जंगल में नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना सुरक्षाबल को मिल रही थी। इसको देखते हुए शुक्रवार को डीआरजी, CRPF, STF तथा कोबरा बटालियन की संयुक्त टीम रवाना की गई थी। इसमें 2059 जवान शामिल थे। शनिवार को सर्चिंग से वापसी के दौरान बीजापुर के तर्रेम व सुकमा के सिलगेर के बीच जोन्नागुड़ा के जंगल में सुरक्षाबल की एक टुकड़ी को नक्सलियों ने घेर लिया। बताया जा रहा है कि नक्सली पहाड़ पर थे, जबकि सुरक्षाबल खुले मैदान में। नक्सलियों ने अचानक फायरिंग शुरू कर दी। जवानों ने भी मोर्चा संभाल लिया। दोपहर 12 बजे से करीब तीन घंटे तक दोनों ओर से लगातार फायरिंग होती रही। हमले में 22 जवान शहीद हो गए। वहीं, घायल जवानों का इलाज चल रहा है। मुठभेड़ में कम से कम 15 नक्सली मारे गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया कि उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। वीर शहीदों के बलिदान को कभी नहीं भुलाया जा सकेगा।प्रधानमंत्री ने घायल जवानों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना भी की। वहीं, गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया कि मैं छत्तीसगढ़ में माओवादियों से लड़ते हुए शहीद सुरक्षाकर्मियों के बलिदान को नमन करता हूं। राष्ट्र उनके शौर्य को कभी नहीं भूलेगा। मैं उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। हम शांति और प्रगति के इन दुश्मनों (नक्सलियों) के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि सुरक्षा बलों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी। नक्सलियों के विरुद्ध और तेजी से अभियान चलाएंगे। 

Post a Comment

0 Comments