कारतूस में फंसे शस्त्र विक्रेता भाईयों को बलिया पुलिस ने पहुंचाया 'लाल घर'


बलिया। शुक्रवार की शाम गलत तरीके से कारतूस बेचने वाले शहर कोतवाली पुलिस ने शस्त्र विक्रेता गुदरी बाजार निवासी मेराज आलम तथा उसके भाई सेराज आलम को गिरफ्तार कर चालान न्यायालय कर दिया। पुलिस की कार्रवाई से शस्त्र विक्रेताओं में खलबली मच गई है।
दुबहर थाना क्षेत्र के डुमरी गांव निवासी केंद्रीय रिजर्व बल (CRPF) से रिटायर्ड जवान मैनेजर सिंह के पास 315 बोर रायफल का लाइसेंस है। शस्त्र विक्रेता ने 27 व 28 अगस्त तथा एक सितंबर 2020 को प्रतिदिन 50-50 कारतूस देने की जानकारी इन्हें दी थी। इस बीच, 100 से अधिक कारतूस लेने वाले शस्त्र लाइसेंस धारकों की जांच पुलिस करने लगी, जिसमें इस दुकान से भी 100 से अधिक कारतूस का मामला सामने आया। ओक्डेनगंज पुलिस चौकी इंचार्ज सुनील लांबा की जांच में पता चला कि शस्त्र विक्रेता ने लाइसेंस धारक को केवल 10 कारतूस ही दिया और उनके लाइसेंस पर गलत तरीके से 150 कारतूस देने की जानकारी दी। अवकाश प्राप्त CRPF जवान ने 10 कारतूस मिलने की बात स्वीकार की। 

Post a Comment

0 Comments