To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : चुनाव ड्यूटी और कोरोना के बीच 'अटेवा' से आई यह आवाज


बलिया। पेंशन बचाओ मंच, अटेवा बलिया के जिला संयोजक समीर कुमार पाण्डेय ने प्राणहन्ता महामारी कोरोना के बढ़ते प्रकोप से निर्वाचन कर्मचारियों व अन्य जनता को सावधान करते हुए कहा है कि अपनी सुरक्षा अपने ही हाथों में है। सभी साथी सावधान हो जाएं...। मास्क लगाएं। दूरी बनाए रखें। गलाला करें। भांप जरूर लें। और बहुत जरूरी होने पर ही बाहर निकलें।
श्री पाण्डेय ने लोगों को आगाह व सावधान करते हुए कहा कि कल हमने तीन साथियों को खो दिया। आगे सुरक्षा के नियमों का अनुपालन खुद व परिवार के लिए बहुत आवश्यक है। हम सबको अपने क्षेत्र के विधायक, सांसद से पूछना चाहिए कि आप कोरोना में लोगों की क्या मदद कर रहे? क्योंकि यह दिखने में आ रहा है कि इस प्राणहन्ता महामारी में अनु.21 (प्राण और दैहिक स्वतंत्रता का संरक्षण) का दम घुट रहा है। यह कोरोना प्रकोप का कठिन समय चुनाव व भीड़ इक्कठा करने का नहीं, बल्कि खुद अपने व अपनो को सुरक्षित रखने का है। यह वक्त चुनाव का नही था, पर कोरोना गाइड लाइन का अनुपालन न करते हुए चुनावी ट्रेनिंग दी जा रही हैं। आगे चुनाव के दिन भी यदि ऐसी ही लचर व्यवस्था रही तो समाज व देश भयंकर त्रासदी की ओर जाने को बाध्य होगा। ऐसे में यह अत्यंत ही आवश्यक हो गया है कि मजबूर, बीमार कर्मचारियों व महिला कर्मियों को या तो चुनावी ड्यूटी से मुक्त रखने की कोशिश की जाए या फिर नजदीक ड्यूटी या कुछ अन्य सहूलियत देने का प्रयास किया जाए। पोलिंग पार्टियों को बूथ पर रवानगी से पहले चुनाव सामग्री के साथ कोरोना से बचाव के समुचित साधनों को उपलब्ध कराना आवश्यक है।खुद श्री पाण्डेय नजदीकी संपर्क के साथियों के कोरोना पॉजिटिव आने के कारण अपने को एक कमरे में आइसोलेट कर लिये हैं। उन्हें कुछ दिक्कतें हैं। सिर व शरीर में दर्द, आंख जलना, पेट की गड़बड़ी व थकान आदि। उन्होंने जिला प्रशासन से मांग करते हुए कहा कि जो महिला गर्भवती है, दूध पीते बच्चे की माँ है, जिनके घर में कोरोना पीड़ित सदस्य जिंदगी से लड़ रहा है। ऐसे प्रतिकूल परिस्थियों वाले कर्मियों के जरूरी चुनाव ड्यूटी से मुक्त रखा जाए। यदि ऐसा नही होता है तो वह खुद तो जोखिम उठाएगा ही अन्य को प्रभावित भी करेगा, जो समाजहित में नही होगा।
        
ये जो हालात हैं ये सब तो गुजर जायेंगे,
मगर कुछ लोग निगाहों से उतर जायेंगे।

Post a Comment

0 Comments