बलिया : बढ़ते कोरोना संक्रमण से जागरूक लोग चिन्तित, की यह अपील

 

बैरिया, बलिया। बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए जागरूक लोगों में चिंता व्याप्त है। इस दुर्दांत राक्षस पर कैसे विजय पाया जाए, इसको लेकर हर क्षेत्र में चिंता का विषय है। क्योंकि रोजाना ही कोरोना के रोगियों की तादाद बढ़ती जा रही है। इसके चलते स्वास्थ्य विभाग भी चिंतित है। समाज के जागरूक लोगों ने सामाजिक लॉकडाउन लगाने पर बल दिया हैं। इससे स्वास्थ्य विभाग भी सहमत है। 



कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर सपा के वरिष्ठ नेता सूर्यभान सिंह का कहना है कि कोरोना संक्रमण अत्यंत ही खतरनाक है।सरकार को जो करना था, सरकार ने कर दिया। अब सरकार के पास कोई ठोस उपाय नहीं है। इस कारण अपने जीवन की रक्षा करने के लिए घर में रहना ही बेहतर है। बहुत आवश्यक हो तो पूरी सावधानी के साथ बाहर निकले। 


सपा के वरिष्ठ नेता विजयकांत सिंह ने बताया कि सरकार अगर लॉक डाऊन नहीं लगाती है तो ना लगाएं, अपने जीवन की रक्षा के लिए जनता को सामाजिक लॉकडाउन लगाना ही पड़ेगा। उन्होंने लोगों से अपील किया है कि कोरोना काल में पूरी सावधानी बरतें जरूरत हो तो घर से बाहर निकले। कीमती जीवन को बचाना अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। इसके लिए स्वयं आगे आना होगा।


युवा समाजसेवी सुशील कुमार पांडेय ने अनुरोध किया है कि कोरोना का संक्रमण बेहद खतरनाक है। इससे बचने के लिए कोविड-19 प्रोटोकॉल का अनुपालन आवश्यक है। अगर इस प्रोटोकॉल का पालन करने के उपरांत जीवन बच सकता है तो इसका पालन करने में कोई संकोच नहीं होना चाहिए। उन्होंने लोगों से आग्रह किया है कि अपने घर में सुरक्षित रहें। बहुत आवश्यक हो तो घर से बाहर पूरी सावधानी के साथ  निकले। आखिर यह भी कोरोना काल का  समय बीत जाएगा।


अखंड निर्माण मिशन राममगर के संस्थापक समाजसेवी पंडित मोहन चंद उपाध्याय ने बताया कि कोरोना से बचने के लिए सात्विक भोजन करें। पेट खाली ना रहने दें। काढ़ा, च्वनप्राश के अलावा गर्म पानी का सेवन आवश्यक है। सावधानी के साथ अपने घर में रहना इस समय में बहुत ही चालाकी पूर्ण निर्णय हैं। अगर समाज सुरक्षित नहीं रहेगा तो सरकार भी सुरक्षित नहीं रहेगी। इसलिए अपने को सुरक्षित रखने के लिए घर में रहना बेहद आवश्यक है। सामाजिक लाक डाउन आवश्यक है।



प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मुरली छपरा के प्रभारी डॉ. देव नीति सिंह ने कोरोना को खतरनाक बताते हुए हिम्मत से लड़ने की सलाह दी है। उनका कहना है कि कोरोना के संबंध में सोचना ही व्यर्थ है। कोविड-19 गाइडलाइन का पालन आवश्यक है। निडर होकर घर में रहे। कहीं भी इधर-उधर जाना हो तो मास्क, सैनिटाइजर जरूर रखे।स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें। आहार संतुलित और सतर्कता बेहद आवश्यक है। जब तक सामाजिक कार्यकर्ता और आम जनमानस में जागरूकता नहीं आएगी, तब तक करोना पर विजय पाना असंभव दिख रहा है। उन्होंने सामाजिक क्षेत्र के हर शख्स से आह्वान किया है कि सामाजिक लॉकडाउन आवश्यक है। अगर यह कुछ दिन अपने आप में लागू कर दिया जाए तो कोरोना पर नि:संकोच काबू पाया जा सकता है। इसके लिए लोगों को सहयोग करना पड़ेगा।

शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments