To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बलिया के एक शिक्षक ने कुछ यूं किया उस 'समझ' का विरोध


बलिया। उच्च प्राथमिक विद्यालय कैथवली (कम्पोजिट) के सहायक अध्यापक अमरेश कुमार चतुर्वेदी ने चुनाव ड्यूटी के एवज में मिला 1200 रुपए सरकार को वापस कर दिया है। श्री चतुर्वेदी का कहना है कि लोग लगातार चुनाव आयोग और सरकार से गुहार लगाते रहे कि पंचायत चुनाव कुछ दिन टाल दिया जाए। लेकिन किसी की नहीं सुनी गई।फरमान आया कि चुनाव तय समय पर ही होंगे। पहले, दूसरे और तीसरे चरण के चुनाव हुए। चुनाव ड्यूटी करने वाले कई कर्मचारियों की जान चली गई। श्री चतुर्वेदी ने कहा, तीसरे चरण का चुनाव मेरे यहां भी था। पार्टी रवानगी से लेकर मतपेटी जमा करने तक की पूरी चुनाव प्रक्रिया में कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ी। भय के साये में लोगों ने चुनाव करवाए। लगातार शिक्षकों के मरने की खबरें मिलने से मन बहुत दुःखी है। मन में ये मलाल है कि कम से कम ये चुनाव तो टाला ही जा सकता था। जिस सरकारी मशीनरी को कोविड नियंत्रित करने में होना चहिए, वह चुनाव करवाने में लगी है। गांव के लोग भी एक दूसरे के ऊपर बढ़-चढ़ कर वोट देने को आतुर थे। कम से कम इन सबको टाला जा सकता था। कुछ लोगों की जान बच सकती थी, लेकिन जिम्मेदार लोगों को लगा कि चुनाव ज्यादा जरूरी है। उनकी अपनी समझ थी। उस समझ का मेरा यह कड़ा विरोध है।


Post a Comment

0 Comments