To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

2614 रेलकर्मी हुए सेवानिवृत्त, विदा करते हुए रेलमंत्री ने प्राइवेटाइज को लेकर कही ये बात


गोरखपुर। रेल, वाणिज्य, उद्योग तथा उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल ने 31 मार्च, 2021 को सम्पूर्ण भारतीय रेल से सेवानिवृत्त हो रहे 2614 रेलकर्मियों को कान्फ्रेस हाल, रेलवे बोर्ड, नई दिल्ली से वीडियो लिंक के माध्यम से बिदाई दी। उनके सुखमय भविष्य की कामना की। कहा कि रेलवे के लिये यह कठिन समय है। इस कठिन समय में भी हम आगे बढ़ रहे है। आज हमारें देश भर के सभी रेल परिवार के सम्मानित सदस्यगणों में 2614 सदस्य सेवा निवृत्त हो रहे है, जो रेलवे की प्रगति में शामिल रहे है। बहुत सारी उपब्धियां इस कोविड के समय में भारतीय रेल ने हासिल की है जो सराहनीय है। आज तक के आंकड़ों के हिसाब से भारतीय रेल पर माल लदान 1230 मिलियन टन हो गयी है, जो सबसे ज्यादा है। 
सितम्बर, 2020 से मार्च, 2021 तक 07 माह में भारतीय रेलवे ने रिकार्ड लोडिंग की है। यह सब एक सोची समझी रणनीति और आप सभी के परिश्रम का फल है। यह सामूहिक उपलब्धि है जिससे हमें और आगे ले जाना है। इसके लिये इसी उत्साह से हमें आगे भी कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि अप्रैल, 2021 से मार्च, 2022 तक हम हर माह नये कीर्तिमान स्थापित करें। आगे हम ऐसा राजस्व अर्जित करें, जिससे कि हम आत्मनिर्भर बन सके। समयबद्वता के क्षेत्र में भी हमने अच्छी प्रगति की है। इसे हमें शत-प्रतिशत बनाने का प्रयास जारी रखना है। हमें पूरी व्यवस्था को गुणवत्तापूर्ण बनाना है। कहा कि इस वर्ष रेलवे के इतिहास में सबसे अधिक स्क्रैप निस्तारित किया गया है। विद्युतीकरण के क्षेत्र में भी हमने इतिहास बनाया है। पर्यावरण व रेल के लम्बी अवधि के लाभ के लिये भी विद्युतीकरण बहुत आवष्यक था। एक वर्ष में लगभग 6000 किमी. विद्युतीकरण हुआ है जो कि गर्व की बात है। कोविड के कठिन दौर भी हमने बड़े-बड़े कार्य किये है। किसानों को सही उपज मिले इसके लिये 45 रूटों पर 436 किसान रेल चलायी गयी जिनसे एक लाख चालीस हजार टन कृषि उपज को देश के कोने-कोने में पहुंचाया गया। जहां भी किसानों को जरूरत होगी, आगे भी किसान रेल चलायी जाती रहेगी। उन्होंने कहा कि पूरा रेल परिवार एक फौज की तरह है। अभी तक 1619 आईसीएफ कोचो को एनएमजी कोचों में बदला गया। आटोमोबाइल लोडिंग 90 प्रतिशत बढ़ी है। रोड ओवर ब्रिज, ट्रैक रिन्यूवल एवं संरक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य हुए। भारतीय रेलवे को निवेश की आवश्यकता है, जिसे हम पब्लिक प्राइवेट सेक्टर से पूरा करेंगे। इससे हमें आय एवं नई तकनीकी प्राप्त होगी। कहा कि भारतीय रेल की मालकियत सरकार की ही रहेगी। रेलवे को प्राइवेटाइज करने का कोई प्रस्ताव एवं चर्चा की संभावना नहीं है। इसे प्राइवेटाइज नहीं किया जायेगा। उन्होंने सभी सेवा निवृत्त रेलकर्मियों का आभार जताते हुए उन्हें रेल को आगे बढ़ाने के लिये धन्यवाद दिया। उनके सुखमय जीवन की कामना की। 

रेलवे आज नई ऊंचाईयों पर

अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी, रेलवे बोर्ड, नई दिल्ली सुनीत शर्मा ने कहा कि रेलवे को नई ऊँचाईयों पर ले जाने के लिये आप सभी ने समर्पित एवं एकजुट होकर अच्छा कार्य किया है। इससे आज रेलवे नई ऊँचाईयों पर दिखाई दे रही है। आप सभी स्वस्थ एवं दीघार्यु रहे, इसके लिये शुभकामनायें दी। 

गोरखपुर में 17 रेलकर्मियों को दी विदाई

मुख्यालय, गोरखपुर में सेवानिवृत्त हो रहे 17 अराजपत्रित रेलकर्मियों को सहायक कार्मिक अधिकारी अनिरूद्व प्रसाद ने गोल्ड प्लेटेड मेडल, समापक राशि का प्रपत्र एवं सेवा प्रमाण-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। समारोह में रेल कर्मचारी तथा सेवा निवृत्त कर्मचारियों के परिजन उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments