To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

रेलवे ई-टिकट का अवैध कारोबार करने वाले दो दलाल गिरफ्तार


वाराणसी। निरीक्षक मुकेश कुमार सिंह, उप निरीक्षक संजय कुमार राय, सउनि मिथिलेश शुक्ला, कां. प्रताप सिंह /अपराध सूचना शाखा /छपरा व प्रभारी निरीक्षक अजय कुमार सिंह, उप निरीक्षक ओ.पी.सिंह, कान्स. शिवरतन पाल, कान्स. महेश सिंह, कान्स. विकास कन्नौजिया/रेसुब/पोस्ट सीवान द्वारा तरवारा बाजार/सीवान परिक्षेत्र में इंद्रा चौक के पास स्थित प्रदीप ट्रेवल्स नामक दुकान पर छापा मारकर संचालक प्रदीप कुमार पुत्र गौतम प्रसाद तथा सहायक इरफान अली पुत्र अख्तर हुसैन ,(दोनों निवासी : कुर्मी टोला, तरवारा, थाना- गौतमबुद्ध नगर तरवारा, सिवान) को फेक नाम पत्ते से आईआरसीटीसी की 171 फर्जी पर्सनल आईडी बनाकर उसपर रेलवे का ई- टिकट बनाकर अवैध रूप से बेचने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में पकड़े गए अभियुक्तगण द्वारा बताया गया कि उनके द्वारा फर्जी नाम-पते से आईआरसीटीसी की करीब 171 पर्सनल यूजर आईडी बनाकर उस पर जरूरमंद व्यक्तियों से रेलवे टिकटों का आर्डर प्राप्त कर तथा ई टिकट बनाकर ग्राहकों को ₹200 से 400 रुपये प्रति व्यक्ति लाभ लेकर बेचा जाता है। उपरोक्त सभी IRCTC आईडी को चेक करने पर 75 ई-टिकट कीमती 1,83,224 रुपये, जिनमें आगे की तिथियों के 47 लाइव टिकट कीमत 1,20,177/- रुपये ( 03 लाइव तत्काल रेलवे ई टिकट कीमती 7928/- रुपये व 44  लाइव सामान्य रेलवे ई टिकट कीमत 112249/- रुपये) तथा पीछे की तिथियों का 28 ई टिकट कीमत 63047/- रुपये (16 तत्काल रेलवे ई टिकट कीमत 36369/- रुपये व 12 सामान्य रेलवे ई टिकट कीमती 26678/- रुपये) बरामद हुआ। उक्त विवरण प्राप्ति में साइबर सेल/मुख्यालय/गोरखपुर द्वारा पूर्ण सहयोग प्रदान किया गया। दुकान से अभियुक्तगण द्वारा रेलवे ई टिकट बनाने में प्रयुक्त 02 HP व 1 COMPOQ का लैपटॉप तथा 03 एप्सन/ब्रदर्स प्रिंटर, नगद 4200/- रुपये, 03 मोबाइल, की-बोर्ड, माउस आदि को जब्त किया गया। उपरोक्त अभियुक्तगण द्वारा करीब 5-6 वर्षों से इस अनाधिकृत व गैरकानूनी कार्य में संलिप्त होना स्वीकार किया गया। जिससे अबतक करोड़ो रूपये के 5000 से ज्यादा रेलवे ई टिकट बनाकर अवैध रूप से बेचा जा चुका है। वर्तमान में पकड़े गए अभियुक्तों द्वारा कोई सॉफ्टवेयर का उपयोग करना नही पाया गया। उपरोक्त अभियुक्तगण के विरुद्ध रेसुब पोस्ट सीवान पर रेल अधिनियम की धारा 143 के तहत पंजीकृत किया गया, जिसकी जांच उप निरीक्षक ओम प्रकाश सिंह/रेसुब/सिवान द्वारा की जायेगी।

Post a Comment

0 Comments