To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

छोड़ेंगे न हम तेरा साथ : बलिया लोक अदालत से ससम्मान विदा हुए तीन जोड़े

 


बलिया। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के निर्देश पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस सप्ताह के समापन पर रविवार को परिवार न्यायालय में प्रधान न्यायाधीश सत्यप्रकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में लोक अदालत का आयोजन किया गया। इसमें वैवाहिक वादों से संबंधित मुकदमों में पक्षकारों के बीच आपसी सुलह संधि वार्ता कराकर निपटारे का प्रयास किया गया। इस दौरान परिवार न्यायालय से संबंधित दो अदालतों में 10 मामलों का निस्तारण करते हुए तीन जोड़ों को सुलह कराकर ससम्मान विदा किया गया। 
प्रधान न्यायाधीश सत्य प्रकाश त्रिपाठी की अदालत में  कुल तीन मामलों का निस्तारण कराया गया, जबकि अपर परिवार न्यायाधीश दयाराम की अदालत में 7 मामलों का निस्तारण कराया गया है। इनमें से 3 मामलों में पति-पत्नी को आपसी मतभेदों को भूलाकर साथ-साथ रहने के लिए तैयार करते हुए उन्हें एक साथ विदा किया गया। संक्षिप्त समारोह में सम्मानपूर्वक न्यायालय से अपने घर के लिए भेजा गया। प्रधान न्यायाधीश सत्यप्रकाश त्रिपाठी ने विदा होने वाले जोड़ों को नसीहत देते हुए वैवाहिक वादों में आपसी सुलह के आधार पर मामलों का निस्तारण कराना सही व श्रेयस्कर बताया। कहा कि इसमें समय व धन की तो बचत होती है। साथ ही मुकदमों को अंतिम रूप से निस्तारित भी किया जाता है। प्राधिकरण की सचिव रिचा वर्मा ने बताया कि लोक अदालत में बिना किसी दबाव के मामलों का निस्तारण किया जाना, बिखरे परिवार जोड़ना है। इस मौके पर परामर्शदाता नूतन श्रीवास्तव ने सभी जोड़ों को एकसाथ मिलकर परिवार चलाने की सलाह दी। इस मौके पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव रिचा वर्मा, काउंसलर नूतन श्रीवास्तव,  आशीष श्रीवास्तव, नीरज सिंह, अजय राय, वीरेंद्र कुमार, रमाकांत वर्मा, कदम राम व कमल वर्मा सहित अन्य कर्मचारी मौजूद रहे।

नवनीत मिश्र

Post a Comment

0 Comments