To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


ads booking by purvanchal24@gmail.com

बलिया : तीन युवकों की मौत मामले में बिजली विभाग की जांच पर उठा सवाल


बैरिया, बलिया। बैरिया तहसील क्षेत्र के शोभाछपरा में 24 फरवरी को हाईटेंशन तार हादसे में दलजीत टोला के तीन युवकों की मौत के बाद गांव की ओर से लवकुश सिंह, अरूण सिंह, चंदन सिंह, बादशाह यादव ने मुख्यमंत्री कार्यालय को पत्रक देकर पूरे प्रकरण की निष्पक्ष जांच की मांग की थी।मुख्यमंत्री कार्यालय के प्रमुख सचिव ने कंप्यूटर संदर्भ संख्या 15193210012017 के तहत अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन को जांच कर रिपोर्ट मांगा था। इसके बाद विद्युत विभाग ने खुद से जांच कर मनमाना जांच रिपोर्ट शासन को भेज दिया है।

इसकी जानकारी होने पर शोभाछपरा गांव सहित मृतकाें के गांव के लोग भी आक्रोशित हो उठे हैं। पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम आजमगढ़ की ओर से शासन में उर्जा विभाग के प्रमुख सचिव को जांच रिपोर्ट भेजी गई है, जिसमें कहा गया है कि चलती लाइन में अचानक इंसुलेटर के पंचर होने से तेज जर्क के साथ तार टूटकर नीचे गिर गया और यह हादसा हो गया। संबंधित उपकेंद्र ठेकहा के बारे में लिखा गया है कि तार टूटने के बाद उपकेंद्र की ट्रिपिंग सिस्टम की जांच की गई, जो सही पाया गया।

बोले ग्रामीण
शोभाछपरा गांव के लोगों में राजशेखर सिंह, रणधीर कुमार सिंह, प्रभात सिंह, कर्णछपरा के निवासी दुर्ग विजय सिंह झलन, दलजीत टोला के निवासी सिबोध गुप्ता, आशीष रंजन सिंह, मनीष सिंह, भवन टोला निवासी अरूण सिंह, चंदन सिंह, संसार टोला निवासी बादशाह यादव आदि ने बताया कि तार टूटने के बाद काफी देर तक तीनों युवक झुलसते रहे, जबकि विद्युत विभाग उपकेंद्र पर लाइन ट्रिप होने की फर्जी रिपोर्ट लगाया है। विद्युत विभाग के लोग तो अभी मृत तीनों युवकों के परिजनों से भी नहीं मिले। जांच रिपोर्ट में यह भी लिखा गया है कि तार जर्जर हाल में नहीं है जबकि हर क्षेत्र की जनता जर्जर तार के विषय में खुले रूप से साक्ष्य प्रस्तुत कर रही है। इसके बावजूद मुख्यमंत्री कार्यालय विद्युत विभाग की इस जांच रिपोर्ट पर यकीन कर रहा है।

मजिस्ट्रियल जांच
इसके अलावा जिलाधिकारी ने घटना की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश के बाद एसडीएम बैरिया को यह जांच मिला है। इसमें शोभाछपरा, दलजीत टोला आदि गांवों से रणधीर सिंह, मनोज कुमार गुप्ता, राजेंद्र प्रसाद, पारस सिंह, गोपाल गुप्ता, संजय गुप्ता, सिनोध गुप्ता, प्रभात सिंह, दुर्गविजय सिंह, आशीष सिंह, देवधारी यादव, गौतम यादव, मनीष सिंह, रजनीश सिंह, अजीत कुमार सिंह सहित दो दर्जन से अधित लोगों ने अपना दर्ज कराते हुए घटना की निष्पक्ष जांच की मांग करते हुए तीन युवकों की मौत के लिए विद्युत विभाग के अधिकारियों को जिम्मेदार माना है। चेतावनी दी है कि यदि संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं होती तो गांव के लोग सामूहिक रूप से न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाएंगे।

शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments