बलिया : कृषि कानूनों के जरिए किसानों को बंधुआ मजदूर बनाना चाहती है सरकार


मनियर, बलिया। पीसीसी सदस्य व कोऑपरेटिव बैंक के पूर्व चेयरमैन कमलेश कुमार सिंह ने कहा कि तीनों कृषि कानून किसानों के हित में नहीं है। सरकार को अपनी हठधर्मिता छोड़कर ये तीनों कानून वापस लेना चाहिए। 
हथौज गांव में रविवार को किसान चौपाल  को संबोधित करते हुए श्री सिंह ने कहा कि यह कार्यक्रम प्रियंका गांधी एवं प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू जी के निर्देश पर रखा गया था। ब्लॉक अध्यक्ष अभिषेक पाठक ने कहा कि भारत सरकार कृषि कानूनों के जरिए किसानों को बंधुआ मजदूर बनाना चाहती है। यह कानून पूंजीपतियों को और धनाढ्य बनाने एवं जमाखोरी को बढ़ावा देने वाला है। सरकार सरकारी संस्थाएं अपने पूंजीपति मित्रों को बेच रही है। महंगाई के सारे रिकॉर्ड टूट गये है। रसोई गैस, डीजल, पेट्रोल एवं तमाम रोजमर्रा के उत्पादों पर दाम बढ़ाए जा रहे हैं‌। सरकार जनता की बुनियादी सवालों पर फेल है। अब जनता सरकार को उखाड़ फेंकने का मन बना चुकी है। इस दौरान नव वर्ष 2021 का कैलेंडर वितरित किया गया। धीरेंद्र मिश्रा, आनंद जी, अमित उपाध्याय, प्रेम प्रकाश राय, अनिल पांडेय, सुनील यादव, योगेंद्र यादव, राजेश मिश्र, इंद्रमल प्रजापति, अंजनी राय, राजेश राय, लाल साहब चौहान, मुमताज खान, मनोज तिवारी, आजाद राय, रितेश चौहान इत्यादि मौजूद रहे। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश किसान सभा एवं किसान मोर्चा के बैनर तले दर्जनों लोगों ने कृषि कानून वापसी की मांग को लेकर चांदूपाकड़ से जलूस निकालकर मनियर कस्बे को भ्रमण करते हुए चांदू पाकड़ शिव मंदिर पर सभा की।

Post a Comment

0 Comments