पांच दशक बाद यादों में खोई Chief Guest के रूप में स्कूल पहुंची एलुमनी


बलिया। 'मैं यहां कुलपति के रूप में नहीं, सीनियर छात्रा के रूप में उपस्थित हूं। 54 वर्ष पहले सन् 1965-66 में मैं यहां कक्षा छः में अकेली छात्रा थीं। उनके गुरु उन पर विशेष ध्यान देते थे। आज यहां आकर बहुत खुश हूं, क्योंकि शिष्य का प्रतिष्ठा प्राप्त कर विद्यालय को प्रसिद्धि के शिखर तक ले जाना ही उसकी सच्ची गुरुदक्षिणा होती है।' यह वक्तव्य है श्री मुरली मनोहर टाउन इण्टर कालेज की पुरा छात्रा व जननायक चन्द्रशेखर विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. कल्पलता पाण्डेय का। विद्यालय की पत्रिका 'विकासिका' के 56वें अंक के विमोचन व बलिया के मालवीय मुरली बाबू की जयंती पर आयोजित खेलकूद व सांस्कृतिक प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरण समारोह में पहुंची कुलपति ने विद्यालय में बिताए क्षणों को याद की। 


बोली, इस सभागार में मैंने बहुत सारे कार्यक्रमों में भाग लिया है। पुरस्कार जीता है। वे मेरे जीवन की बहुमूल्य यादें हैं। मैं इसे कभी भूल नहीं सकती। यहां से जुड़ी स्मृतियां अमिट हैं। आज जहां मंच बना है, पहले वहां एक छोटी चौकी रखी जाती थी। उसी पर मंच बनता था। तुलसी जयंती पर कार्यक्रम प्रस्तुत करते हुए मैंने 'राम हैं मातु, पिता, गुरु, बंधु औ संगी, सखा, सुत, स्वामी सनेही' का पाठ किया था। मुझे प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ था। वह पुरस्कार आज भी मेरे लिए अनमोल है। बलिया के मालवीय मुरली बाबू का व्यक्तित्व अद्भुत था। मुझे गर्व है कि मैंने उनके साथ अपना बचपन जिया है। मुरली बाबू का वात्सल्य प्रेम गजब का था। वे मुझे अपनी नतनी की तरह प्यार करते थे। मेरा उनके साथ झगड़ा भी होता था। बच्चों के साथ वे बिल्कुल बच्चे बन जाते थे। कार्य के समय उनका व्यक्तित्व विलक्षण हो जाता था। वे आज जहां भी हैं मुझे जरूर देख रहे हैं कि मैं जहां पढ़ती थी, वहां आज कुलपति के रूप में मुख्य अतिथि बनकर पहुंची हूं। वे प्रसन्न हो रहे होंगे। मुझे आशीर्वाद दे रहे होंगे। मैं उन्हें सादर नमन करती हूं।


कुलपति का स्वागत 

विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष डॉक्टर प्रदीप श्रीवास्तव, प्रबंधक अमर कुमार व प्रधानाचार्य अखिलेश सिनहा ने कुलपति का बुके देकर स्वागत किया। इसके बाद वह मुरली बाबू की प्रतिमा स्थल पर गईं और वहां माल्यार्पण किया। टाउन एजुकेशनल सोसायटी के सचिव राकेश कुमार श्रीवास्तव ने स्वागत भाषण किया।

खेलकूद प्रतियोगिता : जूनियर चैम्पियन बने अनुभव, सीनियर में अन्नू गुप्ता 

कुलपति ने पत्रिका के विमोचन के बाद खेलकूद प्रतियोगिता के जूनियर चैम्पियन अनुभव यादव, सीनियर चैम्पियन अन्नू गुप्ता तथा सांस्कृतिक प्रतियोगिता के जूनियर चैम्पियन प्रिंस शर्मा व सीनियर चैम्पियन को पुरस्कार दिया। कुलपति को विद्यालय परिवार व उनके पांच शिष्य जो विद्यालय में शिक्षक हैं को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। संचालन अभिषेक कुमार पाठक ने किया। विद्यालय की पुरा छात्रा के रुप में कुलपति का स्वागत करने के लिए विद्यालय के शिक्षक व छात्र भारी संख्या में उपस्थित रहे। कार्यक्रम में टाउन एजुकेशनल सोसायटी के अध्यक्ष दीपक वर्मा व प्रबंध समिति के उप प्रबंधक अमिताभ श्रीवास्तव की उपस्थिति विशेष रही। 

Post a Comment

0 Comments