To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


बलिया : शहीद जवानों के स्मरणार्थ अटेवा का शांति मार्च, सैनिक संगठन भी रहा शामिल


बलिया। पुलवामा आतंकी हमले के अर्द्धसैनिक बल के शहीद जवानों के स्मरणार्थ शांति मार्च व श्रद्धांजलि सभा का आयोजन रविवार को किया गया। अटेवा के राष्ट्रीय आह्वान पर अटेवा पेंशन बचाओ मंच के तत्वाधान में चंद्रशेखर उद्यान से शांति मार्च आरम्भ हुआ, जो टाउन चौराहा से कुंवर सिंह चौराहा होते हुए स्टेडियम, मिड्ढी चौराहा मार्ग से टाउन चौराहा होकर पुनःकलेक्ट्रेट परिसर पहुंचकर श्रद्धांजलि सभा में परिवर्तित हो गया। 


वहां, शहीदों के चित्र पर  पुष्पार्चन एवं कैंडिल जलाकर अमर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। जिला संयोजक समीर पाण्डेय ने बताया कि इस शांति मार्च के माध्यम से केंद्र सरकार से अर्द्धसैनिक बलों के जवानों को पुरानी पेंशन बहाली एवं शहीद का दर्जा देने की मांग की जा रही है। सरकार द्वारा अर्द्धसैनिक बलों एवं कर्मचारियों पर थोपी गई शेयर बाजार आधारित नवीन पेंशन योजना को सरकार तत्काल वापस लें और पुरानी पेंशन योजना बहाल की जाय। श्रद्धांजलि सभा एवं शांति मार्च का नेतृत्व जिला कार्यकारिणी अटेवा बलिया के सदस्यों द्वारा किया गया। ओपी राय (मंडलाध्यक्ष अटेवा), समीर कुमार पाण्डेय (जिलाध्यक्ष अटेवा, बलिया), विनीत सिंह, लक्ष्मण सिंह, सन्तोष यादव, राकेश मौर्य, अखिलेश सिंह, लालबहादुर शर्मा, निर्भय नारायण सिंह, संजय पाण्डेय, विनय राय, नंदलाल शर्मा, पंकज सिंह, संजीव कुमार सिंह, वीरेंद्र सिंह, गणेश सिंह, मुन्नू राम, अजित सिंह, आलोक यादव, अंकुर द्विवेदी, सरवत अफ़रोज़, चित्रलेखा सिंह, गीता सिंह, सुधा, वंदना, संगीता आदि के साथ भारी संख्या में मातृ शक्तियों व शिक्षक कर्मचारियों की उपस्थिति रही।



पूर्व सैनिक संगठन आल इंडिया नेवल वेटरन एसोसिएशन ने दी श्रद्धांजलि

पुलवामा हमले की दूसरी बरसी पर लोंगों ने शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित किया। वीरगति को प्राप्त अर्द्धसैनिक बल के जवानों को याद करते हुए घटना की निंदा की। इसी क्रम में पूर्व सैनिक संगठन आल इंडिया नेवल वेटरन एसोसिएशन के जिला महासचिव व सहायक अध्यापक रजनीश कुमार चौबे ने संगठन के सदस्यों के साथ  शहीदों को नमन किया। कहा कि देश की एकता, अखंडता और अस्मिता की रक्षा के लिए एक सैनिक अपनी जान न्यौछावर करने के लिए प्रतिपल तैयार रहता है। देश की रक्षा के खातिर ही दो साल पूर्व देश के 40 सपूतों ने अपनी जान दे दी थी। उस घटना को देश के सैनिक न तो भूले हैं और न ही इसके जिम्मेदारों को कभी माफ करेंगे। इस मौके पर अजय चौबे, मुकेश पांडेय, नंदलाल गुप्ता, विनय सिंह, रविन्द्र कुमार, पवन कुमार, राजू गुप्ता, धीरज सिंह व कल्लू आदि मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments