बलिया : चर्चा में डेढ़ लाख


बैरिया, बलिया। भारतीय स्टेट बैंक कोटवां शाखा में नोट अदला बदली के आरोप में ग्रामीणों व बैंक कर्मियों द्वारा पकड़ कर पुलिस के हवाले किये गए बिहार के तीन युवकों को बैरिया पुलिस ने गांजा के साथ चालान कर दिया। तीनो युवकों से बरामद लगभग डेढ़ लाख रुपये कहा गए, इसका कही अता पता नहीं।
ज्ञात हो कि बिहार के पटना जनपद के जितेन्द्र पांण्डेय, हरेन्द्र तिवारी व रंजन मिश्र सोमवार को ग्राहकों से नोटों का अदला बदली का प्रयास करते समय बैंक ग्राहकों द्वारा पकड़ लिये गये थे। उनके पास लगभग डेढ़ लाख रुपये थे, जिसे बैंक कर्मियों को सौंपा गया। शाखा प्रबन्धक विवेक कुमार सिंह ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने तीनों आरोपितों को हिरासत में ले लिया। वहीं, दर्जनों ग्रामीणों के सामने युवकों से बरामद लगभग डेढ़ लाख रुपये शाखा प्रबन्धक द्वारा पुलिस को सौप दिया गया।पुलिस तीनो युवकों को पैसे व उनकी मोटरसाइकिल के साथ थाने ले गयी, जहां से दूसरे दिन मंगलवार को उक्त तीनों युवकों को नारकोटिक्स एक्ट के तहत गांजा के साथ चालान कर दिया गया। रुपये कहा गए ? इस बाबत एसएचओ संजय त्रिपाठी का कहना है कि जिन युवकों को रुपये के संग पकड़ा गया था, उन्हें पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया।यह गांजा वाला मामला दूसरा है जबकि बैंक में लगे सीसीटीवी देखने पर वहीं तीनों युवक की फुटेज है। ग्रामीणों ने बैंक कर्मियों के संग पकड़ा था और रुपये से भरे झोले के साथ पुलिस को सौपा था। ऐसे में पुलिस की यह कार्रवाई क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी है। उधर, सीएसपी संचालक ठेकहां निवासी रकी सिंह ने एसएचओ को प्रार्थना पत्र देकर सुरक्षा की गुहार लगाई है। कहा है कि जिन युवकों को पैसे के साथ बैंक से पकड़कर पुलिस को हम लोग सौंपे थे, उनके साथी हमारी हत्या करने व सीएसपी लूटने की धमकी दे रहे है। ऐसे में बैरिया पुलिस की यह कार्रवाई क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। इस बाबत पूछने पर क्षेत्राधिकारी बैरिया आरके तिवारी ने बताया कि मैं लखनऊ गया हुआ था। मामला मेरे संज्ञान में नहीं है। मामले की जांच कराऊंगा।

शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments