बलिया की इस तहसील में 3547 मामले लम्बित, ऐसे निपटायेंगे अफसर


बैरिया, बलिया। बैरिया तहसील के उप जिलाधिकारी व तहसीलदार न्यायालय में 3547 मामले लंबित है। वादकारी तहसील पर आकर अपनी अगली तारीख लेकर निराश वापस लौट रहे हैं। 
बैरिया तहसील में तारीख पर तारीख देने की परम्परा बन गयी है। इसमें उपजिलाधिकारी न्यायालय में 2481 तहसीलदार न्यायालय में 1066 मामले सुनवाई पर है। कोरोना संक्रमण के चलते लगभग 7 माह तक बैरिया तहसील के न्यायालयों में काम नहीं हुआ। इस दौरान भी काफी मामले तहसील के तहसीलदार, एसडीएम व नायब तहसीलदार के न्यायालयों में बढ़ गये, जिनकी गणना अभी सक्रिय मामलों में नहीं की जा रही है। दो-दो नायब तहसीलदार का पोस्ट होते हुए भी मौजूदा समय में यहां एक भी नायब तहसीलदार उपलब्ध नहीं है। अक्टूबर के अंतिम सप्ताह में एसडीएम बैरिया व तहसीलदार दोनों लोगों ने आश्वस्त किया था कि नवंबर से न्यायालयों में नियमित सुनवाई होगी। इस क्रम में तहसीलदार न्यायालय के काफी सक्रिय मामले तो निपटाए गए, लेकिन एसडीएम न्यायालय के मामले टस से मस नहीं हुए हैं। अधिवक्ताओं का कहना है कि इस बीच में उप जिलाधिकारी गिनती के दो-तीन दिन ही न्यायालय में बैठे हैं, जबकि तहसीलदार न्यायालय में मामलों के निपटारे काफी हुए हैं। तहसील पर आने वाले वादकारी काफी परेशान हो रहे हैं। इस संदर्भ में तहसीलदार शिवसागर दुबे का कहना था कि अन्य प्रशासनिक कार्यों के चलते न्यायालय में बैठने का समय काफी कम मिला, फिर भी बहुत जल्द ही अधिक मामले निपटा लिए जाएंगे। क्रिटिकल मामलों में थोड़ा समय लगेगा। वहीं उपजिलाधिकारी बैरिया प्रशांत नायक ने कहा कि अगले सोमवार से न्यायालय में नियमित बैठा जाएगा। सुबह उस डेट की सुनवाई वाले मामले नोटिस बोर्ड पर लगा दिए जाएंगे, जो अधिवक्ता तैयार होंगे वह अपने मामले बता देंगे। पहले उन लोगों को सुना जाएगा। उसके बाद शेष मामलों को। क्योंकि न्यायालय में बैठने के दौरान पुकार होती रही और कोई उपस्थित नहीं हुआ। लोग तत्पर रहेंगे तो मामलों का शीघ्र निस्तारण होगा।

शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments