बलिया : डीएम से मिले छापेमारी के तरीके से नाराज चिकित्सक


बलिया। नर्सिंग होम पर छापेमारी कर संचालकों में दहशत फैलाने के मामले को लेकर नर्सिंग होम एसोसिएशन व आईएमए  का प्रतिनिधिमंडल जिलाधिकारी से उनके आवास पर मिला। इस दौरान चिकित्सकों ने कहा कि जिस तरीके से उनके नर्सिंग होम पर प्रशासनिक अफसरों द्वारा छापेमारी कर दहशत फैलाने का कार्य किया जा रहा है, वह गलत है। नर्सिंग होम एसोसिएशन के सचिव डॉ. बीके गुप्ता ने कहा कि हम निजी नर्सिंग होम संचालक अपने अस्पतालों में शासन द्वारा निर्धारित हर मानक को पूरा करते हैं। कोरोना काल में हम लोगों ने हर प्रकार से शासन-प्रशासन का सहयोग दिया, लेकिन अब बेवजह परेशान किया जा रहा है। हम लोगों के साथ अपराधियों की तरह सुलूक किया जा रहा है। आइएमए के सचिव डॉ अजीत सिंह ने कहा कि हम नर्सिंग होम चलाते हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि हम लोगों को परेशान किया जाय। पूर्व सीएमओ डॉ पीके सिंह ने शासन के कायदे कानून का हवाला देते हुए उनका बेवजह शोषण न करने की अपील की। कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चिकिसलयो में लगे हुए अग्निशमन के क्रियाशील उपकरण की फोटो उपलब्ध कराने की बात की गई है, लेकिन अग्निशमन विभाग द्वारा इस तथ्य को दिग्भ्रमित कर अनापत्ति प्रमाण पत्र बताया जा रहा है। इससे चिकित्सको को भयभीत कर आर्थिक शोषण के लिए मजबूर किया जा रहा है। चिकित्सकों की बात सुनने के बाद जिलाधिकारी ने सार्थक आश्वासन दिया। इस मौके पर डॉ सुरेश चन्द्र, डा. संतोष कुमार, डॉ अशोक कुमार गुप्ता, डॉ बीएन गुप्ता, डॉ अशोक कुमार, डॉ ए आलम, डॉ धनंजय प्रसाद, डॉ केके तिवारी, डॉ अनिल सिंह, डॉ जीएस पाठक आदि मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments