बलिया : संत हों या गृहस्थ, सबको करना चाहिए यह काम


बलिया। स्वामी हरिहरानंद जी महाराज ने कहा कि प्रभु का नाम नियमित लेने से ही मनुष्य का कल्याण होगा। वे पीडब्ल्यूडी ऑफिस स्थित हनुमान मंदिर पर चल रहे शाश्वताखण्ड हरिनाम संकीर्तन के दौरान बुधवार को अपने अनुयायियों को सम्बोधित कर रहे थे। 
स्वामी हरिहरानंद ने 1962 में अपने घर त्याग का जिक्र करते हुए कहा कि साधु को सांसारिक सुखों से दूर रहना चाहिए। प्रभु के नाम में जो सुख है, वैसा कहीं और नहीं मिलेगा। भगवान का भजन पूरी निष्ठा और बिना नागा करने से सबकुछ प्राप्त किया जा सकता है। इसलिए चाहे संत हों या गृहस्थ, सबको प्रभु का नाम लेते रहना चाहिए। कहा कि हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे जपने से सभी दुखों का नाश होता है।  स्वामी हरिहरानंद ने सभी को सत्संग करने की नसीहत दी। उन्होंने सत्संग का महत्व बताते हुए कहा कि सत्संग करने से मन शुद्ध रहता है। इससे मनवांछित गुरू की भी प्राप्ति होती है। अच्छे गुरू के सानिध्य से ही मानव जीवन में सफलता मिलती है। उन्होंने हनुमान मंदिर पर चल रहे हरिनाम संकीर्तन की पूर्णाहुति पर आयोजित होने वाले भंडारे की सफलता के लिए शुभकामनाएं देते हुए प्रवचन समाप्त किया। इसके पहले हनुमान मंदिर पर चल रहे हरिकीर्तन के यजमानों व दूर-दूर से आये अन्य श्रद्धालुओं ने स्वामी जी को माल्यार्पण कर आशीर्वाद लिया। स्वामी हरिहरानंद ने 15 जनवरी से खपड़िया बाबा आश्रम श्रीपालपुर में शुरू होने वाले यज्ञ के लिए सभी को आमंत्रित किया। जिसकी पूर्णाहुति 28 जनवरी को होगी। 15 जनवरी को विशाल जलयात्रा निकलेगी।

Post a Comment

0 Comments