To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

पूर्वोत्तर रेलवे महाप्रबन्धक ने अफसरों को दिया यह निर्देश, 'निर्भया फण्ड’ पर भी हुई बात


वाराणसी। पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबन्धक विनय कुमार त्रिपाठी ने पूर्वोत्तर रेलवे पर चल रहे दिव्यांगजनों की सुविधा समेत सिगनल, विद्युत एवं पुलों के अनुरक्षण से सम्बन्धित विभिन्न कार्यों की समीक्षा 18 दिसम्बर, 2020 को महाप्रबन्धक सभागार, गोरखपुर में की। बैठक में अपर महाप्रबन्धक अमित कुमार अग्रवाल, प्रमुख मुख्य परिचालन प्रबन्धक अनिल कुमार सिंह, प्रमुख मुख्य वाणिज्य प्रबन्धक एससी प्रसाद, प्रमुख मुख्य यांत्रिक इंजीनियर एके पाण्डेय, मुख्य प्रषासनिक अधिकारी/निर्माण आरके यादव, प्रमुख मुख्य इंजीनियर सतीश कुमार पाण्डेय, प्रमुख मुख्य सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर अनिल कुमार मिश्र, प्रधान वित्त सलाहकार सुश्री तनुजा पाण्डेय, प्रमुख मुख्य सुरक्षा आयुक्त/रेलवे सुरक्षा बल अतुल कुमार श्रीवास्तव, मुख्य परियोजना निदेशक/स्टेशन डेवलेपमेंट एसके मिश्र, मुख्य कार्मिक अधिकारी/प्रशासन नुरूद्दीन अंसारी, महाप्रबन्धक के सचिव डीके खरे, मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह तथा उप महाप्रबन्धक/सामान्य श्रीकृष्ण चन्द्र सिंह तथा वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मण्डल रेल प्रबन्धक/लखनऊ डा. मोनिका अग्निहोत्री, मण्डल रेल प्रबन्धक/इज्जतनगर आशुतोष पन्त तथा अपर मण्डल रेल प्रबन्धक/वाराणसी प्रवीन कुमार ने भाग लिया। 
महाप्रबन्धक ने दिव्यांग यात्रियों को उपलब्ध करायी जा रही सुविधाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि दिव्यांगजनों हेतु स्टेशनों पर निर्धारित मानक के अनुसार सुविधायें उपलब्ध करायीं जाय। इसके अन्तर्गत रैम्प, पार्किंग व्यवस्था, नान स्लीपरी वाॅक-वे, साइनेज, एक पानी पीने का टैप, भूमि तल पर प्रसाधन, प्लेटफार्म पर इनग्रेविंग इत्यादि सुविधायें सम्मिलित है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे इन सुविधाओं की उपलब्धता एवं उनका उचित अनुरक्षण निश्चित रूप से सुनिश्चित करें। रेल पुलों की समीक्षा करते हुए महाप्रबन्धक ने कहा कि पुलों के मरम्मत एवं उनके सुदृढ़ीकरण तथा जैकेटिंग एवं गाइड बंड के स्वीकृत कार्य समय से पूर्ण करें, जिससे संरक्षित रेल संचलन में कोई बाधा न हो।
श्री त्रिपाठी ने सिगनलिंग प्रणाली की समीक्षा करते हुए कहा कि आइसोलेटेड इन्सुलेशन ज्वाइंटों को प्राथमिकता के आधार पर हटाया जाए। प्वाइंट मशीनों के रिप्लेसमेन्ट के साथ ही इलेक्ट्रिक लिफ्टिन्ग बैरियर का प्रावधान करने वाले कार्यों को शीघ्र पूर्ण करने का निर्देश दिया। उन्होंने पावर सप्लाई सिस्टम को बेहतर करने के लिये ललित नारायण मिश्र रेलवे चिकित्सालय, गोरखपुर में रिवायरिंग एवं पुरानी फिटिंगों को यथाशीघ्र बदलने तथा चिकित्सालय में 21 मार्च, 2021 तक एक लिफ्ट उपलब्ध कराये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया। जहां ग्लोसाइन बोर्ड लगाये जाने का कार्य स्वीकृत है, वहां स्लिम एल.ई.डी. एवं ग्लोसाइन बोर्ड लगाया जाए। बैठक के दौरान कारखानों में विकसित की जाने वाली सुविधाओं से संबंधित विभिन्न पक्षों में विस्तार से चर्चा की गयी। 
कर्मचारी कल्याण से संबंधित विभिन्न कार्यों एवं योजनाओं पर विस्तार से चर्चा करते हुए महाप्रबन्धक ने कर्मचारी हित में किये जाने वाले कार्यों की गुणवत्ता सुनिश्चित करने हेतु कहा और ’’निर्भया फण्ड’’ से स्वीकृत सुरक्षा संबंधित कार्यों की चर्चा करते हुए उन्होंने इसे तेजी से पूरा किये जाने पर बल दिया।
महाप्रबन्धक ने स्पष्ट रूप से अधिकारियों को निर्देशित किया कि सभी कार्य निर्धारित समय सीमा में निश्चित रूप से पूरे किये जाये। अधिकारियों ने महाप्रबन्धक को आश्वासन दिया कि निर्देशों, लक्ष्यों एवं सुझावों पर प्राथमिकता के आधार पर कार्यवाही कर रेल संचलन एवं यात्री सुविधाओं को उन्नत करने की दिशा में अपना योगदान करेंगे।

Post a Comment

0 Comments