मौसम का बदलता मिजाज देख ट्रैक पर उतरे पूर्वोत्तर रेलवे के अफसर


वाराणसी। रेलवे प्रशासन द्वारा जाड़े एवं कोहरे के मौसम को ध्यान में रखकर संरक्षित रेल यात्रा सुनिश्चित करने के लिये सुनियोजित कार्ययोजना के तहत गुरुवार को मुख्य संरक्षा अधिकारी, पूर्वोत्तर रेलवे एसएन शाह ने अपनी टीम के साथ अंकुशपुर एवं गाजीपुर सिटी रेल खण्ड का सेफ्टी ऑडिट निरीक्षण किया। इसके साथ ही साथ गाजीपुर स्थित जोनल ट्रेनिंग सेंटर में प्रशिक्षणार्थियों को मिलने वाले प्रशिक्षण की समीक्षा की। इस अवसर पर मुख्य परिवहन परियोजना प्रबंधक, गोरखपुर अनिल कुमार, मुख्य इंजीनियर/कार्य एसपी यादव, चीफ रोलिंग स्टाक इंजीनियर/फ्रेट आरके जाटव, मुख्य सिगनल इंजीनियर ज्ञान प्रकाश, वरिष्ठ मंडल संरक्षा अधिकारी वीरेंद्र यादव, वरिष्ठ इंजीनियर द्वितीय एमके सिंह, वरिष्ठ मंडल सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर त्रयम्बक तिवारी एवं वरिष्ठ पर्यवेक्षक उपस्थित थे।

सेफ्टी ऑडिट टीम ने गाजीपुर स्थित जोनल ट्रेनिंग सेंटर का निरीक्षण किया और वहां प्रशिक्षणार्थियों से संरक्षा संवाद कर उनका संरक्षा के प्रति ज्ञान परखा। इसके साथ ही प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे कर्मचारियों को संरक्षा के अपडेटेड नियमों की सोदाहरण जानकारी हेतु संरक्षा संगोष्ठी आयोजित की, जिसमें कर्मचारियों की संरक्षा से सम्बंधित विभिन्न भ्रांतियों का निराकरण भी किया गया। इसके साथ ही प्रशिक्षणरत कर्मचारियों को संरक्षा शपथ दिलाई गयी। इस दौरान कर्मचारियों को मिलने वाले प्रशिक्षण की समीक्षा की। संरक्षा की दृष्टि से कर्मचारियों को तत्पर एवं सतर्क रहने हेतु प्रशिक्षित किये जाने पर संतोष व्यक्त किया।
 
सेफ्टी ऑडिट टीम सड़क मार्ग से गाजीपुर सिटी स्टेशन पहुंचे और संरक्षित यातायात प्रबंधन हेतु स्टेशन सेक्शन में संस्थापित बर्थिंग ट्रैकों, पॉइंट मशीनों,सिगनलों,पैदल उपरिगामी पूल की ऊंचाई एवं अप्रोच, प्लेटफार्म लेंथ क्लियरेंस, फायर एलार्म, स्टेशन वर्किंग रूल, रिले रूम, पॉइन्ट क्रासिंग तथा विभिन्न उपकरणों की फेल सेफ साइड प्रणाली  आदि का  गहन निरीक्षण करते हुए संरक्षा की समीक्षा की और सम्बंधित को निर्देश दिए। 

सेफ्टी ऑडिट टीम पुश ट्राली से गाजीपुर सिटी-अंकुशपुर रेल खण्ड में ट्रैक्शन ओवर हेड लाइन, पावर फिडर, समपार फाटकों, कर्वेचर, पूल पुलियाओं के स्टैंडर्ड मानकों का परीक्षण करते हुए अंकुशपुर स्टेशन पहुंची। दोनों ब्लाक सेक्शन के मध्य रेल खण्ड का  स्टैंडर्ड मानकों के अनुसार  लाइन फिटिंग्स और उसपर संस्थापित सिगनलो, टर्न आउट्स,  बैलास्टिंग एवं पैकिंग, कर्वेचर पर पर्याप्त क्लियरेंस, पॉइंट्स एंड क्रासिंग, रेलवे ट्रैक लाइन फिटिंग्स, विद्युतिकृत कलर लाइट सिगनल, लॉक एण्ड ब्लाक टोकन लेस इंस्ट्रूमेंट, ब्लाक ओवरलैप, ब्लाक एवं सिगनल ओवरलैप, fauling mark, प्लेटफार्म पर यात्रियों की सुरक्षा/संरक्षा के सम्बन्ध में  निरिक्षण किया। इस दौरान उन्होंने इस खण्ड में स्थित विभिन्न समपार फाटकों के बूम लॉक की लाकिंग एवं हाईट गेजों के संस्थापन को सुनिश्चित किया। साथ ही इस खंड में पड़ने वाले पुल-पुलिया एवं कर्वेचर पर ट्रैक फिटिंग्स का गहन निरीक्षण किया और सम्बंधित को निर्देश दिया।

इस दौरान इस ब्लाक खण्ड में रेल ज्वाइन्टस तथा जाग्लड फिश प्लेटों के बोल्ट होल का परीक्षण एवं ल्यूब्रीकेशन कार्य का निरीक्षण किया गया और एलडब्लूआर एवं सीडब्लूआर की डिस्ट्रेसिंग के साथ ही रेल पथ की सारी खामियों को दूर कराने का निर्देश दिया गया। ठंड के मौसम में रेल तापमान एक निश्चित सीमा के नीचे आने पर कोल्ड वेदर पेट्रोलिंग हेतु प्रबन्धन की समीक्षा की गयी। साथ ही सभी पेट्रोलमैन को जीपीएस ट्रैकर उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया, जिससे पेट्रोलिंग की प्रभावी मानिटरिंग एवं सूचनाओं का आदान-प्रदान तेजी से हो सके। रेल के तापमान की नियमित रूप से जांच की जाये  तथा इसका रिकार्ड रजिस्टर में भी दर्ज किया जाये। सेफ्टी टीम ने साथ ही पर्याप्त मात्रा में पटाखा सिगनल की उपलब्धता, सिगनल साइटिंग बोर्ड पर ट्रैक के आर-पार लाइम मार्किंग (चूने की मार्किंग), सिगनल साइटिंग बोर्ड, डब्लूएलबोर्ड, फॉग सिगनल पोस्ट, समपारों के लिफ्टिंग बैरियर पर पीले/काले ल्यूमिनस स्ट्रिप की व्यवस्था स्पष्ट दृश्यता हेतु सभी अपेक्षित कार्य पूरे पाए  गये।

Post a Comment

0 Comments