>>>

'आप भले ही मुझे संस्पेंड कर दो, मैं उस स्कूल पर वापस नहीं जाऊंगी'


आगरा। अधिकारियों की लापरवाह कार्यशैली की वजह से न्याय न मिलता देख एक शिक्षिका स्पष्ट बोल दी 'आप मुझे भले ही संस्पेंड कर दो, मैं उस स्कूल पर वापस नहीं जाऊंगी।' मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, करीब दो साल से अंग्रेजी माध्यम प्राथमिक विद्यालय बरौली अहीर नौफरी में दो शिक्षिका कामिनी शर्मा व मीना कुमारी में विवाद चल रहा था।

मीना ने स्कूल प्रभारी कामिनी शर्मा पर मानसिक रूप से परेशान करने का आरोप लगाया था। मीना ने अधिकारियों से फरियाद की, ताकि उसे उस स्कूल से हटा दिया जाय। लेकिन सफलता नही मिली। इसी भागदौड़ में 2019 में उसका गर्भपात हो गया। इसके बाद वह कोर्ट पहुंची। कोर्ट ने स्थानांतरण व मूल विद्यालय ज्वाइन कराने के आदेश दिए।

BSA राजीव कुमार यादव ने मीना का स्थानांतरण न कर मूल विद्यालय में कार्यभार ग्रहण करने का आदेश दिया, लेकिन मीना ने ऐसा नहीं किया। आदेशों की अवहेलना पर बीएसए ने मीना को सस्पेंड कर दिया है। वहीं, स्कूल प्रभारी कामिनी शर्मा को भी संस्पेंड किया गया है। इन पर भी आदेशों की अवहेलना का आरोप है।  

Post a Comment

0 Comments