बलिया पुलिस अलर्ट मोड में, नोटिस देख उड़े कईयों के होश


बिल्थरारोड, बलिया। नगर से सटे उभांव थाना के बिठुआ में 20 नवम्बर को छठ पूजा के दौरान टेंट लगाने का विरोध किए जाने के बाद से चर्चा में आए छठ घाट-कब्रिस्तान विवाद में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है। दोनों पक्ष से 51 लोगों को शांति भंग की आशंका मेें पाबंद किया गया है। बुधवार को एसडीएम संतलाल द्वारा धारा 107-116 की नोटिस भेज दी गई। मामले में विवादित भूमि का एसडीएम संतलाल के निर्देश पर तहसीलदार जितेंद्र सिंह की मौजूदगी में 5 दिसंबर को स्थलीय निरीक्षण व पैमाइश होनी है। इसके पूर्व शांति भंग की संभावना जताते हुए पुलिस ने दोनों पक्ष से 51 लोगों को चिंहित किया है। 

चौकी इचांर्ज आरके सिंह ने बताया कि बिठुआं के छठ घाट के पास विवादित कब्रिस्तान की भूमि को लेकर एसडीएम द्वारा एक पक्ष से तौशिफ उर्फ रेनू, मो. साहब, तकवीम उर्फ सोनू फरसाटारी, जियाउल,  काजी अब्दुल्ला, सगीर फारुकी, मसुदूर, मो. जैद, एहतेसाम, सादिल, मेराज उर्फ सुद, मो. आतिक, अली नवाज, इरशाद, तनवीर, जिशान अंसारी, इस्लाम, रेहान, सेराज, आदिल समेत 31 एवं दूसरे पक्ष से कौशिल्या देवी, भीम, नेपाली यादव, अविनाश यादव, अमितचंद्र, जर्नादन यादव, रमेश यादव, चंदन, बाबूलाल, जोगिंदर, धीरज गोंड, राहुल यादव, सोनू, मरछू, रोहित कुशवाहा, मोतीलाल यादव, रमाशंकर राजभर, बबलू मौर्य समेत 20 को शांति भंग की आशंका के तहत संबंधित धाराओं में पाबंद किया गया है। इन्हें 8 दिसंबर को एसडीएम कोर्ट में तलब किया गया है, जिसकी नोटिस सभी को तामिल कराई जा रही है। 

मालूम हो कि छठ पूजा के दौरान बिठुआ पोखरा के पास पारंपरिक टेंट को अचानक एक पक्ष द्वारा कब्रिस्तान बताकर हटाने का दबाव बनाया जाने लगा था। इससे मौके पर संप्रदायिक तनाव व्याप्त हो गया। विवाद के दौरान तहसीलदार जितेंद्र सिंह की मौजूदगी में पुलिस ने किसी तरह से स्थिति को नियंत्रित किया और छठ पूजा संपन्न हो सका। बावजूद एक पक्ष भूअभिलेख का हवाला देकर छठ घाट को कब्रिस्तान की भूमि बताकर भविष्य में छठ पूजा पर रोक लगाने की प्रशासन से मांग की। 

निलेश कुमार 'दीपू'

Post a Comment

0 Comments