To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

बलिया डीएम ने रोका दो अधिकारियों का वेतन, मचा हड़कम्प


बलिया। जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही ने जनपद के प्रगतिशील किसानों के साथ शनिवार को कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक की। इसमें किसानों ने जिला खाद्य विपणन अधिकारी और एआर कोऑपरेटिव द्वारा किसानों की उपेक्षा करने का आरोप लगाया। साथ ही किसानों की महत्वपूर्ण बैठकों में इन अधिकारियों के नहीं आने की शिकायत की। इस पर जिलाधिकारी ने दोनों अधिकारियों का एक दिन का वेतन रोकते हुए शासन स्तर से कार्रवाई के लिए पत्र लिखने की बात कही। जिलाधिकारी ने कहा कि कृषि कार्य में सबसे महत्वपूर्ण समय होता है। जब सरकार  बीज, खाद व अन्य जरूरी सुविधा समय से दे रही है तो उसे किसानों तक पहुंचाएं। इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही अक्षम्य होगी। किसानों को कोई दिक्कत हुई तो सम्बन्धित अधिकारी की जवाबदेही तय करते हुए कड़ी कार्रवाई होगी। 

बैठक में किसान संघ के अध्यक्ष अखिलेश सिंह ने कहा कि गोदाम में खाद होने के बावजूद एआर कोऑपरेटिव की लापरवाही से किसानों को समय से नहीं मिल पा रही है। इस पर जिलाधिकारी ने एआर कोऑपरेटिव को फोन लगाया और कड़ी फटकार लगाई। किसानों ने कहा कि जिला विपणन अधिकारी भी कभी किसानों की किसी बैठक में नहीं आते है। खरीद में दिक्कत होने पर लाख प्रयास के बाद भी उनसे संपर्क नहीं हो पाता है।

नहर का पानी रोके जाने पर डीएम ने कहा, सिंचाई जरूरी जल्द छोड़ें पानी

किसानों ने वर्तमान में सिंचाई की अत्यंत आवश्यकता को देखते हुए रतसर-सुखपुरा नहर में पानी खुलवाने की मांग की। ठेकेदार द्वारा नहर में 80 मीटर के पक्के निर्माण कार्य के लिए पानी रोका गया है। इस पर डीएम ने कहा कि खेती किसानी में समय महत्वपूर्ण है। वर्तमान में सिंचाई जरूरी है, इसलिए कार्य रोककर तत्काल पानी छोड़ा जाए। शासन स्तर की एक समस्या बताते हुए किसानों ने कहा कि हाईब्रिड की पूरी खरीद नहीं हो पाती है, जबकि मक्का के उत्पादन के हिसाब से विक्री नहीं कर पा रहे हैं। उत्पादन के सापेक्ष खरीददारी हो, ताकि हमारी आय बढ़ सके। साथ ही मक्का प्रोसेसिंग प्लांट या मक्का खरीद के लिए एक केंद्र खुलवाया जाए। इस पर डीएम श्री शाही ने खाद विपणन विभाग को इस सम्बंध में पत्र तैयार कर शासन को भिजवाने की जिम्मेदारी दी। बैठक में डीडीएजी इन्द्राज, कृषि अधिकारी विकेश पटेल, नाबार्ड के अधिकारी व किसान गण मौजूद थे। 

Post a Comment

0 Comments