किसान आंदोलन पर बलिया के भाजपा विधायक का बड़ा बयान


बैरिया, बलिया। किसानों का आंदोलन किसानों का नहीं, बल्कि राजनैतिक दलों का आंदोलन बन गया है। इसका संचालन कांग्रेस, सपा, बसपा व बामपंथी दलों के हाथ में चला गया है। इससे वास्तविक किसानों का कोई लेना देना नहीं है। यह उद्गार बैरिया विधायक सुरेन्द्र सिंह का है। मंगलवार को बैरिया में पत्रकारों से मुखातिब विधायक ने कहा कि हर मोड़ पर पुलिस वाले किसानों का उत्पादन बाजारों में ले जाने के एवज में वसूली कर रहे थे, उस पर नए कानून के तहत पूरी तरह रोक लग गया है।

किसानों को अपनी मर्जी का मालिक बनाया गया है। वह जहां चाहे अपना उत्पाद बेच सकते है। इस व्यवस्था से मंडी माफियाओं के पेट मे दर्द होने लगा है। जिन लोगों ने 70 वर्षों तक किसानों का शोषण किया है, वह किसानहित की बात कर रहा है। प्रधानमंत्री ने हरेक साल किसान सम्मान योजना के तहत हर किसान के खाते में छह हजार रुपया दे रहे है। ग्रामीण महिलाओं को भी प्रति महीने पांच सौ के हिसाब से प्रत्येक खाते में भेजे जा रहे है।

विधायक ने कहा कि 70 वर्ष तक देश पर कांग्रेस ने राज किया है। कितने पैसे किसानों के खाते में भेजे है। 10 वर्ष से अधिक समय तक उत्तर प्रदेश में भी समाजवादी पार्टी सत्ता में रही है, उसने किसानों के लिए क्या किया।असल बात यह है कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है। जनता से ये पूरी तरह से कट चुके है। यह अपनी खोई हुई जमीन तलाशने के लिए किसानों को बरगलाने में लगे है, किंतु किसान इन्हें जान भी रहे है। पहचान भी रहे है। इसलिए यह आंदोलन जल्द ही पूरी तरह से फ्लाप हो जाएगा।

शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments