To Learn Online Click here Your Diksha Education Channel...


>>>

दो स्मृति द्वारों का शिलान्यास कर योगी के मंत्री ने द्वाबा के इस गांव को लिया गोद


बैरिया, बलिया। उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री उपेन्द्र तिवारी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में ममता दीदी का काम तमाम हो चुका है। इस बार वहां भाजपा की सरकार बनेगी। रविवार की देर रात दलनछपरा मवेशी खाना व लक्षी रामब्रह्म के टोला में दो स्मृति द्वारों का शिलान्यास कर बतौर मुख्यातिथि सभा को सम्बोधित करते हुए मंत्री उपेन्द्र तिवारी ने कहा कि देश की जनता का कल्याण केवल भाजपा के पास है। 


विपक्षी जब-जब सरकार में आये देश व प्रदेश को खोखला किया। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश चहुंमुखी विकास कर रहा है। विरोधी अनर्गल प्रलाप में लगे हुए है। मंत्री ने कहा कि किसान आंदोलन से किसानों का कुछ भी लेना देना नही है, बल्कि मंडी माफियाओं के इशारे पर विपक्षी दल के कार्यकर्ता आंदोलन चलाने में लगे हुए है। मंत्री उपेन्द्र तिवारी ने कहा कि दलनछपरा में महाराणा प्रताप व लक्षी रामब्रह्म के टोला में अमर शहीद रविन्द्र यादव के नाम पर स्मृति द्वार का निर्माण तत्काल शुरू होगा। ग्राम पंचायत दलनछपरा को गोद लेने की घोषणा करते हुए कहा इस गांव के सर्वांगीण विकास के लिए समाजसेवी सुशील पाण्डेय बार-बार मेरे व सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त के यहां तगादा करते है। मैं आपको भरोसा दिलाता हूं इस गांव का चहुंमुखी विकास कर इसे संतृप्त किया जाएगा। जल्द ही सम्बंधित विभाग के अधिकारियों का चौपाल दलनछपरा में आयोजित करूंगा। कहा कि सुशील पांण्डेय का सुझाव है कि यहां सड़क, अस्पताल, बिजली, खेलकूद का मैदान सबकुछ उपलब्ध होना चाहिए। अगर सब कुछ ठीक ठाक रहा तो अगले एक वर्ष में दलनछपरा में विकास के सभी संसाधन उपलब्ध हो जाएंगे। कार्यक्रम को सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त के पुत्र बिपलेन्द्र प्रताप सिंह, अरुण पांण्डेय, शिवदयाल पांण्डेय मनन, ननजी सिंह, अमरजीत सिंह, टुनटुन सिंह, राजेश सिंह, भोला चौबे, विनय पांण्डेय, रमेश मिश्र, सियाराम पासवान, रितेश यादव, वीरेन्द्र यादव, दीनानाथ यादव, समर सिंह, धर्मेंद्र सिंह, परसुराम यादव आदि उपस्थित रहे। सुशील पांण्डेय ने आगंतुकों का आभार व संचालन भाजपा के जिला उपाध्यक्ष अमिताभ उपाध्याय ने किया। कार्यक्रम में भोजपुरी फिल्मों के अभिनेता लोकगीत गायक गोपाल राय ने अपनी टीम के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया।

शिवदयाल पांडेय 'मनन'

Post a Comment

0 Comments